दिन में किन्नौर….माइनस डिग्री

बर्फबारी ने पूरी जिला को ही अपनी आगोश में ले लिया,पूरी तरह सफेद चादर में लिपटा किन्नौर जिला का मुख्यालय रिकांगपिओ

रिकांगपिओ –मंगलवार देर रात से जारी बर्फबारी ने पूरी जिला को ही अपनी आगोश में ले लिया है। बुधवार को भी जारी बर्फबारी से किन्नौर जिला एक बार फिर शीत लहर की चपेट में आ गया। किन्नौर में इस समय दिन का अधिकतम तापमान माइंस पांच डिग्री से भी नीचे दर्ज किया जा रहा है। पूरी तरह सफेद चादर में लिपटा किन्नौर जिला का मुख्यालय रिकांगपिओ में बुधवार को प्रातः करीब एक फीट के करीब बर्फ  दर्ज किया गया जबकि किन्नौर जिला के ऊंचे वाले क्षेत्र जैसे छितकुल में ढाई फीट, रकछम में दो फीट, सांगला में डेढ़ फीट, आसरंग में ढाई फीट, नेसांग में डेढ़ फीट, कल्पा में डेढ़ फीट, स्पिलो में छह इंच सहित पवारी, करछम, किल्बा, चोलिंग, टापरी आदि स्थानों पर दो इंच के करीब बर्फ  दर्ज किया गया। सर्दियों के शरुआती दिनों में ही किन्नौर में बर्फ बारी होने से यहां के सेब उत्पादकों के चेहरों पर रौनक देखने को मिल रही है। बागबानों इस बात से खुश है कि इस बार सेब के पौधों को आवश्यक चिलिंग आवर्स समय पर मिल पाएगा। इस सर्दी की पहली हैवी बर्फबारी के कारण लोगों को असुविधा भी उठानी पड़ रही है। बुधवार को हुई बारी बर्फबारी को देखते हुए डीसी किन्नौर ने बुधवार को कल्पा व पूह ब्लॉक के सभी स्कूलों में एक दिन की छुट्टी की घोषणा कर दी। बुधवार को जिला के अधिकांश क्षेत्रों में विधुत आपूर्ति में भी रुकावटे देखे जाने के साथ राष्ट्रीय उच्च मार्ग पांच सहित कई संपर्क सड़क मार्ग अनेक स्थानों पर अवरुद देखा गया। किन्नौर जिला में हुए इस बर्फबारी के चलते हिमाचल पथ परिवहन निगम की सभी 21 लोकल रूट बुधवार को पूरी तरह प्रभावित रही। सभी लोकल रूटों पर बसे नही चलने से राहगीरों को खासी असुविधा उठानी पड़ी। परिवहन निगम के अनुसार बुधवार को सांगला, काफनु, लिप्पा, रारांग, ठंगी, कानम, हांगो आदि स्थानों पर निगम की एक एक बसे फंसी पड़ी है। बुधवार को जिला मुख्यालय रिकांगपिओ से शिमला की और 11 बजे के बाद ही बसों की आवाजाही हो पाई। इस  दौरान निगम को कई लाख रुपए के राजस्व से भी हाथ धोना  पड़ा है।

You might also like