दीक्षांत समारोह के बाद होगी ईसी की बैठक

शिमला  – हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में अब दीक्षांत समारोह के बाद ही ईसी की बैठक आयोजित होगी। एचपीयू की ईसी यानी कार्यकारिणी की बैठक के बाद ही विकास कार्यों को अमलीजामा पहनाया जाएगा। अहम यह है कि विश्वविद्यालय में ईसी की बैठक के बाद ही खाली पड़े 700 से ज्यादा पदों को भरने की शुरूआत होगी। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सरकार के वित्त विभाग के साथ होने वाली बैठक  भी अब दीक्षांत समारोह के बाद होने का अंदेशा जताया जा रहा है। बता दें कि एचपीयू के लिए इस वक्त खाली पड़े शिक्षकों के पदों को भरने के साथ ही निर्माण कार्य करना जरूरी है। ऐसे में एचपीयू में खाली पदों को भरने के साथ ही निर्माण कार्यों को लेकर प्लान पूरा तैयार है। विश्वविद्यालय प्रशासन मात्र बैठक में इस योजना को मंजूरी देने के बाद कार्य करेंगे। दरअसल प्रदेश विश्वविद्यालय में पिछले तीन व चार माह से ईसी की बैठक नहीं हो पाई है, जबकि एचपीयू के विकासात्मक कार्यों को अमलीजामा पहनाने के लिए हर माह यह बैठक एचपीयू में आयोजित करवाना जरूरी होता है। जानकारी के अनुसार 29 नवंबर को होने वाले दीक्षांत समारोह के चलते विश्वविद्यालय के अधिकारी व कर्मचारी तैयारियों में व्यस्त हो गए हैं। ऐसे में अब प्रस्तावित ईसी की बैठक दिसंबर माह में आयोजित करने का फैसला लिया गया है। हालांकि इससे पहले वित्त समिति की बैठक के लिए एचपीयू सरकार से समय लेने का प्रयास कर रहा है। वित्त समिति की बैठक में शिक्षकों के पदों को विज्ञापित करने का मामला उठ सकता है। इसके अलावा विश्वविद्यालय में पार्किंग सहित अन्य निर्माण कार्य शुरू करने पर भी चर्चा होगी। बैठक में विश्वविद्यालय में डिमार्केशन के बाद नई जमीन पर निर्माण  कार्य को लेकर रूपरेखा तैयार की जाएगी। बता दें कि प्रदेश विश्वविद्यालय  ने पहले से ही ट्राइबल होस्टल के बजट का यूटिलाईजेशन सर्टीफिकेट (यूसी) जमा करवा दिया है। लंबे समय से यूसी केंद्र के पास जमा करवाना लंबित था, जो कि जमा कर दी गई है। यूटिलाइजेशन सर्टीफिकेट जमा करवाने के बाद हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में प्रस्तावित 4 नए होस्टलों के लिए बजट जारी होने का रास्ता साफ हो गया है।

खादी परिधान में डिग्रियां लेने पर विचार

विश्वविद्यालय में दीक्षांत समारोह की तैयारियों के लिए बुधवार को उच्च स्तरीय कमेटी की बैठक हुई। बैठक में छात्र-छात्राओं को गाउन के स्थान पर खादी हिमाचली परिधान प्रदान करने पर विचार किया गया, ताकि छात्र-छात्राएं  खादी हिमाचली परिधान में डिग्री प्राप्त कर सकें। हालांकि अभी कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है, लेकिन समय पर परिधान तैयार हो गए तो 29 नवंबर को छात्र-छात्राएं हिमाचली परिधान में डिग्रियां लेते दिख सकते हैं। अगर ऐसा नहीं हुआ तो अगले साल से यह व्यवस्था शुरू होगी।

You might also like