पुष्कर में पंचतीर्थ स्नान शुरु

 

राजस्थान में अजमेर जिले के तीर्थराज पुष्कर में आज सुबह से कार्तिक पूर्णिमा का पंचतीर्थ स्नान शुरू हो गया। ब्रह्म मूहुर्त में हजारों श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगाकर पुण्य कमाया। कार्तिक एकादशी से धार्मिक मेला शुरू होने के साथ ही एकादशी के स्नान का दौर भी दिनभर चलेगा और आध्यात्मिक यात्रा का भी आयोजन किया गया है। अंतर्राष्ट्रीय पुष्कर मेला गोपाष्टमी चार नवंबर से शुरू हुआ और आज आठ नवंबर को एकादशी के मौके पर स्नान के साथ धार्मिक मेला भी शुरू हो गया।गुरुवार देर रात से ही पवित्र पुष्कर सरोवर के घाटों पर श्रद्धालुओं का जमावड़ा शुरू हो गया और ब्रह्म मुहुर्त में श्रद्धालुओं का स्नान का क्रम शुरू हो गया। श्रद्धालु स्नान के बाद जगतपिता ब्रह्मा के दर्शन करने पहुंच रहे है। माना जाता है कि ब्रह्मा ने पांच दिनों तक पवित्र सरोवर के बीच यज्ञ किया था और इस दौरान सभी देवी देवता भी सरोवर में मौजूद रहते है। यही कारण है कि पंचतीर्थ स्नान का विशेष महत्व है। श्रद्धालु स्नान एवं पूजा अर्चना कर मनोकामना पूरी करने की प्रार्थना करते है। आज के मौके पर ब्रह्माजी का मनमोहक श्रृंगार कर तड़के सुबह पांच बजे महाआरती के साथ 101 किलो मेवों का भोग लगाया गया। इस दौरान भी श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा।पुष्कर में पंचतीर्थ स्नान को लेकर जहां प्रशासन सतर्क है वहीं सुरक्षा के भी व्यापक बंदोबस्त किए गए है। रेलवे ने पुष्कर के लिए तीन फेरों की अतिरिक्त व्यवस्था की है तो रोडवेज ने भी मेला स्पेशल बसों का संचालन शुरू किया है। कार्तिक पूर्णिमा महास्नान के साथ मेला बारह नवंबर को संपन्न होगा।

 

You might also like