भारत में सबके लिए दरवाजे खुले

पीएम मोदी ने ब्रिक्स देशों की कंपनियों को दिया देश में निवेश का न्योता

ब्राजीलिया – प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत को दुनिया की सबसे खुली एवं निवेश के लिए अनुकूल अर्थव्यवस्था बताते हुए ब्रिक्स देशों की कंपनियों और कारोबारियों से भारत में निवेश करने और वहां मौजूद असीम संभावनाओं तथा अनगिनत अवसरों का लाभ उठाने का आग्रह किया। प्रधानमंत्री मोदी ने ब्रिक्स बिजनेस फोरम के समापन समारोह में कहा कि वैश्विक आर्थिक सुस्ती के बावजूद ब्रिक्स देशों ने आर्थिक वृद्धि को गति दी है। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि व्यापार अनुकूल सुधारों, जरूरत के अनुरूप नीतियों, राजनीतिक स्थिरता की वजह से भारत दुनिया की सबसे खुली और निवेश के लिए अनुकूल अर्थव्यवस्था है। हम 2024 तक भारत को 5000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाना चाहते हैं। बुनियादी ढांचा क्षेत्र में अकेले 1500 अरब डालर के निवेश की जरूरत है। मोदी ने भारत में असीमित संभावनाओं और अनगिनत अवसरों पर जोर देते हुए ब्रिक्स देशों के कारोबारी दिग्गजों से इनका लाभ उठाने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि मैं ब्रिक्स देशों की इकाइयों से भारत में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने और उसे बढ़ाने का आग्रह करता हूं। प्रधानमंत्री ने कहा कि विश्व की आर्थिक वृद्धि में ब्रिक्स देशों का हिस्सा 50 प्रतिशत है। वैश्विक सुस्ती के बावजूद, ब्रिक्स देशों ने आर्थिक वृद्धि को रफ्तार दी, करोड़ों लोगों को गरीबी से बाहर निकाला और प्रौद्योगिकी एवं नवाचार के क्षेत्र में नई सफलताएं हासिल कीं। ब्रिक्स की स्थापना के 10 साल बाद अब भविष्य में हमारे प्रयासों की दिशा पर विचार करने के लिए यह फोरम एक अच्छा मंच है। पीएम मोदी ने कहा कि बिक्स देशों की इकाइयों के बीच कारोबार को सरल बनाने से आप सी व्यापार और निवेश बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि हम पांच देशों के बीचकर और सीमा शुल्क से जुड़ी प्रक्रियाएं सरल हो रही हैं। बौद्धिक संपदा अधिकार और बैंकों के बीच सहयोग से कारोबारी माहौल आसान हो रहा है। ब्रिक्स बिजनेस फोरम से मेरा अनुरोध है कि वह इस प्रकार उत्पन्न अवसरों का पूरा लाभ उठाएं।

चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग से व्यापार पर चर्चा

ब्राजीलिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ बातचीत की तथा भारत-चीन संबंधों को मजबूती और नई ताकत देने के लिए दोनों शीर्ष नेताओं ने व्यापार और निवेश से जुड़े मामलों पर गहन संपर्क बनाए रखने पर सहमति जताई। प्रधानमंत्री ने 11वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के अवसर पर अलग एक बैठक में बुधवार को कहा कि चेन्नई में पिछले महीने हुई अनौपचारिक शिखर वार्ता के बाद द्विपक्षीय संबंधों को नई ऊर्जा और नई दिशा मिली है।

You might also like