मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलों पर मुहर आज

दिल्ली पहुंचे सीएम की नड्डा से गहन चर्चा, अमित शाह से भी होगा विचार-विमर्श

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर नई दिल्ली में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के साथ मुलाकात के दौरान

शिमला – हिमाचल मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलों पर बुधवार को मुहर लगेगी। दिल्ली पहुंचे मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने इस अहम मुद्दे पर भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा से मंगलवार देर रात गहन चर्चा की है। अब बुधवार सुबह जयराम ठाकुर केंद्रीय गृह मंत्री एवं पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से कैबिनेट विस्तार की संभावनाओं पर सहमति बनाएंगे। मुख्यमंत्री ने केंद्रीय भूतल एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से भी मुलाकात की है। बैठक में राजनीतिक चर्चा के अलावा हिमाचल के लटके फोरलेन व नेशनल हाई-वे प्रोजेक्टों पर बातचीत की गई है। पुख्ता सूचना के अनुसार बुधवार को अमित शाह से मंत्रणा के बाद ही प्रदेश मंत्रिमंडल विस्तार व फेरबदल का खाका तैयार होगा। इसी आधार पर यह भी स्पष्ट हो जाएगा कि कैबिनेट का विस्तार इसी सप्ताह होता है या फिर विधानसभा सत्र के बाद। मुख्यमंत्री विधानसभा सत्र के बाद मंत्रिमंडल का विस्तार करना चाहते हैं। इसके विपरीत अगर केंद्रीय हाइकमान से बुधवार को हरी झंडी मिली तो शपथ समारोह इसी सप्ताह होने की संभावना है। जाहिर है कि मुख्यमंत्री अपने मंत्रियों के विभागों में फेरबदल के हक में भी है। खासकर कांगड़ा के एक मंत्री का भार कम करने की जबरदस्त चर्चा है। कयास लगाए जा रहे हैं कि कांगड़ा के मंत्री के विभागों में फेरबदल कर उन्हें सामाजिक क्षेत्र से जुड़े विभाग का दायित्व दिया जा सकता है। इसके अलावा मंडी संसदीय क्षेत्र के एक मंत्री  से विवादित विभाग छिन सकता है। नए मंत्रियों की ताजपोशी होने पर उन्हें बागबानी, खाद्य एवं आपूर्ति व ऊर्जा जैसे विभागों का दायित्व दिया जा सकता है। सूचना के अनुसार मुख्यमंत्री ने संगठनात्मक मसलों और मंत्रिमंडल के विस्तार को लेकर जगत प्रकाश नड्डा से विस्तार से मंत्रणा कर ली है। अब इसकी अंतिम स्वीकृति अमित शाह से ली जाएगी। मुख्यमंत्री दिल्ली में हाइकमान से चर्चा करेंगे कि मंत्रिमंडल में एक पद भरा जाए या फिर दोनों पदों को भरा जाए। इन कुर्सियों को हथियाने के लिए यहां कई तलबगार बैठे हैं और बेसब्री के साथ इंतजार किया जा  रहा है।

इनके नाम भी शामिल

यदि दो पद भरे जाते हैं तो दूसरे पद के लिए बिक्रम जरियाल, रमेश धवाला, नरेंद्र बरागटा भी कतार में बैठे हैं। हालांकि धवाला व बरागटा के पास कैबिनेट का दर्जा है, मगर वह चाहते है कि उनको मंत्रिपद मिले और वह वरिष्ठ भी हैं।

यह हैं मुख्यमंत्री की पहली पसंद

कैबिनेट में यदि एक मंत्री का पद भरा जाता है तो राकेश पठानिया का नंबर पहला माना जा सकता है। राकेश पठानिया मुख्यमंत्री की पहली पसंद माने जा सकते हैं, जो इन्वेस्टर के दौरान भी सरकार के लिए तन्मयता से काम कर रहे थे। और भी कई मामलों में मुख्यमंत्री को उनका साथ मिल रहा है।

इनकी भी दावेदारी

मंत्रिमंडल में शामिल होने के लिए जबरदस्त दावेदारी पेश कर रहे विधानसभा अध्यक्ष डा. राजीव बिंदल दिल्ली पहुंच गए हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री से भी बंद कमरे में अपना पक्ष मजबूती से रखा है। इसके अलावा डा. राजीव बिंदल ने केंद्रीय नेताओं से भी मुलाकात कर अपने पक्ष में माहौल बनाने का प्रयास किया है।

 

You might also like