महाराष्ट्र में माहौल गर्म

नई दिल्ली/मुंबई – महाराष्ट्र में सरकार के गठन को घमासान चरम सीमा पर है। बुधवार को पीएम नरेंद्र मोदी और एनसीपी चीफ शरद पवार की मुलाकात से महाराष्ट्र की राजनीतिक सरगर्मी और तेज हो गई है। चर्चा यहां तक चली की पीएम मोदी ने पवार को राष्ट्रपति पद का ऑफर दिया है। इसके बाद शिवसेना और कांग्रेस में हड़कंप मच गया। शिवसेना ने अपने सभी विधायक उद्धव ठाकरे के घर बुलाए, तो वहीं, कांग्रेस ने एनसीपी के साथ बैठक की। बुधवार देर रात शिवसेना के सांसद संजय राऊत की ओर से बयान आया कि शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी गुरुवार को सरकार बनाने की योजना कर रही है। वहीं, दिल्ली में एनसीपी मुखिया शरद पवार के आवास पर मीटिंग के बाद कांग्रेस नेता और सूबे के पूर्व सीएम पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि हमारे बीच सकारात्मक बात हुई है, लेकिन गठबंधन पर सहमति नहीं बन पाई। वहीं, मौके पर मौजूद एनसीपी के नेता नवाब मलिक ने शिवसेना संग जाने की बात करते हुए कहा कि तीनों दलों के साथ आए बिना राज्य में स्थिर सरकार नहीं बन सकती है। उधर, पीएम मोदी के बीच 50 मिनट की मुलाकात के बाद देर शाम शरद पवार ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी से बुधवार को संसद में मिला। उनसे महाराष्ट्र के किसानों की समस्याओं पर बात हुई। इस साल खराब मौसम से राज्य में 54.22 लाख हेक्टेयर में फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है।

You might also like