मेहनत से काम करना

श्रीराम शर्मा

दरिद्रता भयानक अभिशाप है। इससे मनुष्य के शारीरिक, पारिवारिक, सामाजिक, मानसिक एवं आत्मिक स्तर का पतन हो जाता है। कहने को कोई कितना भी संतोषी, त्यागी एवं निस्पृह क्यों न बने, किंतु जब दरिद्रता जन्य अभावों के थपेड़े लगते हैं तब कदाचित ही कोई ऐसा धीर गंभीर निकले जिसका अस्तित्व कांप न उठता हो। यह दरिद्रता की स्थिति का जन्म मनुष्य के शारीरिक एवं मानिसक आलस्य से ही होता है। गरीबी, दीनता, हीनता आदि कुफल आलस्यरूपी विषबेलि पर ही फला करते हैं। आलसी व्यक्ति परावलंबी एवं पर भाग भोगी ही होता है। इस धरती पर परिश्रम करके ही अन्न-वस्त्र की व्यवस्था हो सकती है। यदि परमात्मा को मनुष्य की परिश्रमशीलता वांछनीय न होती, तो वह मनुष्य का आहार रोटी वृक्षों पर उगाता। बने बनाए वस्त्रों को घास फूस की तरह पैदा कर देता। मनुष्य को पेट भरने और शरीर ढकने के लिए भोजन वस्त्र कड़ी मेहनत करके ही पैदा करना होता है। नियम है कि जब सब खाते पहनते हैं, तो सबको ही मेहनत और काम करना चाहिए। इसका कोई अर्थ नहीं कि एक कमाए और दूसरा बैठा-बैठा खाए। कोई काम किए बिना भोजन वस्त्र का उपयोग करने वाला दूसरे के परिश्रम का चोर कहा गया है। अवश्य ही उसने हराम की तोड़कर संसार के किसी कोने में श्रम करते हुए किसी व्यक्ति का भाग हरण किया है। दूसरे का भाग चुराना नैतिक, सामाजिक और आत्मिक रूप से पाप है और अकर्मण्य आलसी इस पाप को निर्लज्ज होकर करते ही रहते हैं। जो खाली रहकर निठल्ला बैठा रहता है उसका शारीरिक ही नहीं मानसिक और आध्यात्मिक पतन भी हो जाता है। ‘खाली आदमी शैतान का साथी’ वाली कहावत आलसी पर पूरी तरह चरितार्थ होती है। जो निठल्ला बैठा रहता है, उसे तरह-तरह की खुराफातें सूझती रहती हैं। यह विशेषता परिश्रमशीलता में ही है कि वह मनुष्य के मस्तिष्क में विकारपूर्ण विचार नहीं आने देती पुरुषार्थी व्यक्ति को इतना समय ही नहीं रहता कि वह काम से फुर्सत पाकर ऊहापोह में लगा रहेगा और अकर्मण्य आलसी के पास इसके सिवाय कोई काम नहीं रहता, निदान उसे अनेक प्रकार की ऐसी विकृतियां और दुर्गुण घेर लेते हैं जिससे उसके चरित्र का अधःपतन हो जाता है। परिश्रम से ही सब कुछ प्राप्त हो सकता है।

You might also like