राम मंदिर में कार सेवा करेंगे मुसलमान

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के प्रदेश संयोजक केडी हिमाचली ने किया खुलासा

बिलासपुर –अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर आए सुप्रीम कोर्ट के सर्वहितैषी निर्णय का मुस्लिम राष्ट्रीय मंच ने स्वागत करते हुए विरोध करने वालों व पुनः विचार याचिका दायर करने वालों को आड़े हाथ लिया है। यह बात मंगलवार को मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के प्रदेश संयोजक केडी हिमाचली ने कही। उन्होंने कहा कि देशभर में हिंदू-मुसलमान अमन व शांति चाहता है और देश की तरक्की के लिए बराबर हिस्सेदार बनकर भारत को विश्व गुरु बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के न्यू इंडिया विजन व सबका साथ सबका विकास व सबका विश्वास के मंत्र के साथ आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि हिंदोस्तान के 20 करोड़ मुसलमानों के भाग्य का फैसला अकेले औवेसी या मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के स्वयं भू नेता नहीं करेंगे। हिंदोस्तान के मुसलमानों के रहनुमा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हंै। केडी हिमाचली ने कहा कि राम जन्मभूमि का निर्णय ऐतिहासिक है। हम सब मुसलमान उसका स्वागत करते हैं। उन्होंने पूरे देश के मुसलमानों से आह्वान किया है कि बांटने वालों से बचना है और देश की एकता-अखंडता-आपसी भाईचारे को आंच न आएं, ऐसा माहौल बनाना है। मुसलमानों के लिए मक्का-मदीना व सिक्खों के लिए स्वर्ण मंदिर जितना पूजनीय है, वैसे ही हिंदूओं के लिए उतना ही राम जन्मभूमि स्थान अयोध्या का महत्त्व है। उन्होंने कहा कि जब भी सरकार या राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट मंदिर निर्माण शुरू करेंगे, तो हम मुसलमान जत्थों में जाकर राम मंदिर निर्माण में सेवा करेंगे। केडी हिमाचली ने कहा कि विरोध तो वह लोग कर रहे हैं, जिनकी दुकानदारी बंद हुई है, जबकि आम मुसलमान खुश है। संविधान सभा में जब गरीब मुस्लिम समुदाय के लिए आरक्षण की मांग उठी थी तो कुछ नबाव रजबाड़े मुसलमानों ने यह कहकर इनकार कर दिया था कि मुस्लिम समाज मंे छूआछूत नहीं है और उन्हें अनुसूचित जाति का दर्जा नहीं दिया जा सकता। उन्होंने मोदी सरकार और प्रदेश की जयराम सरकार के अब तक के कार्यकाल पर संतोष जाहिर करते हुए कहा कि जयराम सरकार ने मस्जिदों के लिए 25 लाख के बजट का प्रावधान कर दरियां उपलब्ध करवाई हैं। इसी प्रकार भूमिहीनों को जमीन उपलब्ध करवाने की व्यवस्था करवाकर भी सराहनीय काम किया है।

You might also like