लोकसभा में पलूशन पर चर्चा, सलूशन से ज्यादा क्रेडिट पर बात, बीजेपी MP बोले, पहले सीएम खांसते थे, अब दिल्ली

नई दिल्ली  – दिल्ली-एनसीआर में हर साल सर्दियों के मौसम में होने वाले पलूशन के सलूशन को लेकर लोकसभा में भी चर्चा हुई। हालांकि सलूशन से ज्यादा जोर चर्चा के दौरान क्रेडिट लेने पर ही रहा। चर्चा की शुरुआत करते हुए कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने इसके लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि आखिर सुप्रीम कोर्ट दखल देती है तो इसका मतलब है कि सरकार अपने काम में चूक रही है। हालांकि चर्चा के दौरान बीजेपी, कांग्रेस और बीजेडी ने पलूशन के लिए पराली को जिम्मेदार मानने से इनकार किया। बीजेपी सांसद प्रवेश वर्मा ने दिल्ली के पलूशन के लिए आम आदमी पार्टी की सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। प्रवेश ने कहा कि दिल्ली में पलूशन साल में 200 दिन रहता है, लेकिन पराली तो सिर्फ 40 से 50 दिन ही जलती है। उन्होंने कहा, ‘दिल्ली सरकार 600 करोड़ का ऐड कर हरियाणा, पंजाब और यूपी को जिम्मेदार ठहरा रही है। वर्मा ने कहा कि गांव और शहर की दूरी को बढ़ाना किसी के हित में नहीं है।’ उन्होंने कहा कि दिल्ली का सीएम एक दांव खेल रहा है।

प्रवेश वर्मा बोले, पहले CM अकेले खांसते थे, अब दिल्ली
यही नहीं दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पर निजी हमला बोलते हुए वर्मा ने कहा कि एक समय में वह अकेले खांसते थे और आज जनता खांस रही है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में 1 करोड़ 10 लाख वाहन हैं। यह गाड़ियां इसलिए बढ़ीं क्योंकि दिल्ली में बसें नहीं बढ़ीं। एक भी नई बस नहीं खरीदी और सिर्फ तीन महीने में 100 बसों का ड्रामा किया। सांसद जब बाहर निकलते होंगे तो उन्हें पता लगता है कि दिल्ली के सीएम ने एक भी नई सड़क नहीं बनाई है।

मास्क लगाकर बोलीं टीएमसी की सांसद
टीएमसी की सांसद काकोली घोष दस्तीदार ने कहा कि दुनिया के सबसे ज्यादा प्रदूषित 10 शहरों में से 9 भारत में ही हैं। मास्क लगाकर संसद में बोलते हुए घोष ने कहा कि यह चिंताजनक और शर्मनाक है कि एक विदेशी मेहमान ने देश में प्रदूषण को लेकर टिप्पणी की।

You might also like