वीआईटी में स्मृति ईरानी ने बांटी डिग्रियां

नई दिल्ली – वीआईटी चेन्नई का वार्षिक दीक्षांत समारोह आयोजित किया गया। मुख्य अतिथि केंद्रीय महिला, बाल विकास एवं कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी थी। उन्होंने इस मौके पर स्नातकों को डिग्री एवं पदक वितरित किए। उन्होंने अपने दीक्षांत संबोधन में कहा कि शिक्षा एक वन स्टॉप व्यवस्था नहीं है, विद्यार्थी अपने आगे के जीवन के लिए भी ज्ञान की खोज करते रहें। युवा ज्ञान की लगातार खोज कर सर्वश्रेष्ठता हासिल करें। उन्होंने बेहतर शिक्षा का मार्ग प्रशस्त करने के लिए विश्वनाथन की प्रशंसा की। इस मौके पर 1701 विद्यार्थियों को डिग्री प्रदान की गई। इसमें 64 पीएचडी स्कॉलर एवं 179 रैंक होल्डर्स शामिल हैं। समारोह की अध्यक्षता वीआईटी के संस्थापक एवं चांसलर डा. जी विश्वनाथन ने की। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि शिक्षा के जरिए ही पांच ट्रिलियन डालर की अर्थव्यवस्था के लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है। भारत विभिन्न देशों के विद्यार्थियों के लिए उच्च शिक्षा का गंतव्य होना चाहिए। वर्तमान में वीआईटी में 54 देशों के विद्यार्थी अध्ययन कर रहे हैं। विशिष्ट अतिथि इंडियन बैंक की प्रबंध निदेशक पदमजा चुनदुरू थी। उन्होंने अपने संबोधन में युवा स्नातकों से उद्यमी बन कर समाज में योगदान करने की अपील की। विद्यार्थी जीवन में सफलता पाने के लिए सिद्धांतों तथा नैतिकता का अनुसरण करें। इससे पहले वाइस चांसलर डा.आनंद ए.सैमुअल ने सभी का स्वागत किया। वीआईटी के वाइस प्रेजिडेंट जीवी सेल्वम, डा. एस नारायणन तथा डा. वीएस कंचना भास्करन उपस्थित थे।

You might also like