समय पर कालेज नहीं पहुंच रहे छात्र

बस रूट बदल वाया गदोहल करने से परेशान, एसएफआई ने जताया विरोध

सरकाघाट – धर्मपुर खंड की डरवाड़ पंचायत के गरली गांव से सुबह सवा सात बजे सरकाघाट के लिए चलने वाली बस को वाया गदोहल चलाने से कालेज, आईटीआई में पढ़ने वाले बच्चों और दूसरे दूर वाले स्थानों पर जाने वाले लोगों को पिछले एक सप्ताह से भारी दिक्कत हो रही है और वे सरकाघाट में नौ बजे के बजाय 10 बजे पहुंच रहे हैं, जिससे वे अपनी कक्षाएं भी अटेंड नहीं कर पा रहे हैं। एसएफआई छात्र संगठन सरकाघाट कालेज कमेटी की सदस्य शैलजा पठानिया, रोहित, पुनीत, मोहित, तमन्ना, शालु, राखी, श्रेया, शिवानी, साहिल, अक्षु, कुनाल, अभिषेक, रिया, आशु आदि ने बताया कि जो बस सुबह कालेज की कक्षा लगने के समय पहुंचती थी, उसे अब मंत्री महोदय के आदेशों के कारण वाया गदोहल चलाया जा रहा है, जिस कारण वे समय पर कालेज नहीं पहुंच पा रहे हैं। इसलिए इस बस को पूर्व की भांति सीधा ही चलाया जाए और गदोहल के लिए अलग बस लगाई जाए। इस समस्या के बारे में लोगों व छात्रों ने जिला पार्षद भूपेंद्र सिंह से भी हस्तक्षेप करने की मांग की। इस बारे में उन्होंने क्षेत्रीय प्रबंधक से दूरभाष पर बात की है और गदोहल के लिए अलग से बस लगाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि गरली से सरकाघाट बस को सीधे ही चलाया जाए। जिला पार्षद ने कहा कि धर्मपुर के विधायक और वर्तमान सरकार में आईपीएच मंत्री महेंद्र सिंह आए दिन नई बसों को चलाने की हर सप्ताह नई-नई घोषणाएं करते हैं और हर मोड़ पर साइन बोर्ड लगाने का काम कर रहे हैं और नए लिंक रोड पर बसें भेजने का फरमान भी एचआरटीसी के अधिकारियों को जारी कर देते हैं, लेकिन वे अभी तक पिछले दो साल में धर्मपुर और सरकाघाट डिपो में एकमात्र नई बस मुहैया नहीं करवा पाए हैं और न ही कोई नई भर्ती कर पाए हैं। इसके चलते जो वर्तमान बसें चलती हैं उन्हें ही नए रूटों पर घुमाया जा रहा है, जिससे वे बसें पूर्व निर्धारित समय पर नहीं पहुंच रही हैं और कालेजों व आईटीआई में पढ़ने वाले विद्यार्थियों और मंडी शिमला व दूसरे स्थानों पर पहुंचने में देरी हो रही है। इसलिए जिला पार्षद भूपेंद्र सिंह व हिमाचल किसान सभा धर्मपुर कमेटी ने धर्मपुर बस डिपो में जल्द नई बसें उपलबध करवाने और खाली पदों को जल्द भरने की मांग की है, ताकि सभी गांवों के लिए नई बसें चलाई जा सकें।

You might also like