10 साल बाद भी लटकी सिंचाई योजना

 भवाई में योजना की पाइपों में लगा जंग, लाखों रुपए खर्च होने पर लोगों को भी नहीं मिली सुविधा

नौहराधार –सरकार की विकास की गति कितनी अधिक तेज है इसका अंदाजा रेणुका विस क्षेत्र के सबसे दुर्गम ग्राम पंचायत भवाई में देखने को मिलता है। हैरानी की बात यह है कि यहां सिंचाई परियोजना 10 वर्ष बीत जाने के बाद भी पूरी नहीं हो पाई है। 250 एमएम की पाइपों में जंग लग गया है। करीब 4665 मीटर लंबी बनाई गई कूहल पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई है। पंप हाउस में लगी मोटरें भी जंग खा रही हैं। कूहल में बिछी पाइपों में जंग लग चुका है। बता दें कि इस योजना से भवाई पंचायत के किसानों को सिंचाई के लिए खड्ड से लगभग 90 एलपीएस यानी 90 लीटर प्रति सेकेंड पानी उपलब्ध होना था। योजना शुरू न होने की वजह से 90 एलपीएस पानी वेस्ट हो रहा है। लाखों रुपए खर्च होने के बावजूद सिंचाई सुविधा न मिलने के कारण भवाई पंचायत के लोगों में सरकार व विभाग के प्रति भारी रोष है। 2005 में यह सिंचाई योजना के लिए 39.58 लाख की राशि स्वीकृत हुई थी। पंचायत की लगभग 41 हेक्टेयर भूमि को सिंचित बनाने के उद्देश्य से इस योजना का निर्माण किया जा रहा था। योजना का कार्य 2005 में शुरू हुआ था। 2008 में इसका निर्माण कार्य पूरा होने के बाद लोग इस योजना के उद्घाटन का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। किसानों का कहना है कि गर्मी में सूखा होने के कारण किसानों को लाखों का नुकसान उठाना पड़ रहा है, क्योंकि यह क्षेत्र मात्र 30 फीसदी सिंचित क्षेत्र है। बाकी की 70 फीसदी किसानों को बारिश के पानी पर निर्भर रहना पड़ता है। लाखों रुपए खर्च होने के बावजूद सिंचाई सुविधा न मिलने के कारण भवाई पंचायत के लोगों में सरकार व आईपीएच विभाग के प्रति भारी रोष व्याप्त है। लोगों ने विभाग व सरकार से मांग की है कि इस सिंचाई परियोजना को जल्द ही तैयार करके इसे चालू किया जाए, ताकि पंचायत के लोग इस योजना का लाभ उठा सकें। उधर, इस संबंध में सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य विभाग मंडल नौहराधार के अधिशाषी अभियंता अरशद रहमान ने बताया कि न तो परियोजना को हैडओवर किया गया है और न ही उद्घाटन हुआ है। पंप हाउस से केवल चोरी हुई थी। इस योजना के कार्य की मरम्मत की जा रही है। जल्द ही कार्य को संपन्न कर लोगों को सुपूर्द किया जाएगा।

You might also like