आयुर्वेद अस्पताल के पास बनेगी पार्किंग

ऊना – नगर परिषद ऊना आयुर्वेद अस्पताल के समीप पार्किंग बनाएगी। इसके साथ-साथ यहां पर टॉयलेट व दुकानें भी बनाई जाएगी। यह बात नगर परिषद के अध्यक्ष अमरजोत सिंह बेदी ने गुरुवार को नगर परिषद ऊना की बैठक के दौरान कहीं। उन्होंने कहा कि नगर परिषद की मांग पर सरकार ने जमीन दे दी है, जिस पर जल्द पार्किंग बनाई जाएगी। पार्किंग बन जाने से मेन बाजार में ट्रैफिक जाम की समस्या का भी समाधान हो पाएगा। यहीं नहीं पुराना रोड़ (जिसे जामुन वाली गली कहते है) ऊना को खोखा मार्केट से होते हुए न्यायालय तक रास्ते का निर्माण किया जाएगा। फंड मिलते ही जल्द इस रास्ते का निमार्ण कार्य शुरू कर दिया जाएगा। अमरजोत सिंह बेदी ने कहा कि नगर परिषद एक जेई व एक जूनियर क्लर्क के सहारे चल रही है। नगर परिषद में पिछले काफी समय से कर्मचारियों के कई पद रिक्त चल रहे है। ऐसे में नगर परिषद में कार्य करवाने आने वाले लोगों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। स्टाफ की कमी को देखते हुए सरकार की तरफ से प्रोजेक्ट के तहत आए दो कर्मचारियों का भी 30 दिसंबर को कांट्रैक्ट खत्म हो रहा है। सरकार को जल्द से जल्द कर्मचारियों के रिक्त पदों को भरना चाहिए। नगर परिषद में दो माह पहले ज्वाइन करने वाले एसडीओ का भी तबादला हो गया है। बिना स्टाफ के नगर परिषद लोगों को कैसे सुविधाएं दे पाएंगी। अमरजोत सिंह बेदी ने कहा कि सरकार ने नगर परिषदों को आय बढ़ाने के लिए निर्देश दिए है, लेकिन नगर परिषदों को डिवेलपमेंट फीस या हाउस टैक्स, सरकारी भवनों व घरों से लेने नहीं दिया जा रहा है। ऐसे में नगर परिषदों की आय में कैसे बढ़ौतरी हो सकती है। उन्होंने कहा कि अगर नगर परिषद को उक्त शक्तियां नहीं दी जा सकती है तो सरकार नगर परिषदों को अलग से डिवेलपमेंट फंड दें। उन्होंने कहा कि पुलिस प्रशासन द्वारा ऊना शहर के विभिन्न स्थानों पर संदिग्ध गतिविधियों पर नजर रखने के लिए सीसीटीवी कैमरे स्थापित किए है। जिसका बिल भी नगर परिषद वहन करेगी। बैठक में तहसीलदार ऊना विजय रॉय, नगर परिषद के अध्यक्ष अमरजोत सिंह बेदी, पार्षद जसविंद्र कौर, पवन कपिला, शिव कुमार सैनी, सोनिया पुरी, सुमन पुरी, शिवानी पुरी, पुष्पा देवी, अनंतवीर सिंह, सुलिंद्र सिंधु, हरजिंद्र चडडा, अनु सैनी, सुखविंद्र सांगरा आदि उपस्थित रहे। नगर परिषद की बैठक में निर्णय लिया गया कि नगर परिषद में ठेकेदार द्वारा पहले लिए गए काम को शुरु किए बिना ट्रेंडर में भाग लेने पर रोक लगाई गई है। अब वह ठेकेदार टेंडर प्रक्रिया में भाग नहीं ले पाएगा, जिसने पहले कोई काम लिया हो और उसे अभी तक शुरु नहीं किया है।

You might also like