कारोबारियों को कर छूट से 145 हजार करोड़ का चूना

नई दिल्ली – केंद्र सरकार ने कहा है कि कराधान अध्यादेश के तहत कारपोरेटरों को कर में दी गई छूट के कारण देश को 145000 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को एक लिखित प्रश्न के जवाब में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस अध्यादेश के जरिए निवेशकों को आकर्षित करने और निवेश बढ़ाने के वास्ते कर में कटौती का प्रावधान किया गया। कराधान कानून (संशोधन) अध्यादेश, 2019 के तहत कारपोरेट कर की दर में कमी और अन्य राहत के कारण 145 हजार करोड़ रुपए की राजस्व हानि हुई है। उन्होंने कहा कि नियमित बजट 2019-20 के लिए राजकोषीय घाटे का लक्ष्य 703760 करोड़ रुपए रखा गया है, जो सकल घरेलू उत्पाद-जीडीपी का 3.3 प्रतिशत है और सरकार राजस्व तथा व्यय के नियमित आकलन से राजकोषीय घाटे का प्रबंधन करती है। उधर, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अर्थव्यवस्था पर सरकार के रुख का बचाव करते हुए कहा कि जिस कारपोरेट टैक्स की कटौती के कदम पर हंगामा मचाया जा रहा है, वह कदम ट्रेड वॉर का फायदा उठाने और नए निवेश को आकर्षित करने के लिया उठाया गया था।

You might also like