केलांग में ‘इस देश न आना लाडो…’

 भाषा एवं संस्कृति विभाग के सौजन्य से यशपाल जयंती पर आयोजित कवि सम्मेलन में अशोक राणा ने प्रस्तुत की कविता

केलांग-भाषा एवं संस्कृति विभाग केलांग द्वारा यशपाल जयंती पर मंगलवार को केलांग में जिला स्तरीय बहुभाषी कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया, जिसमें उपायुक्त केके सरोच बतौर मुख्यातिथि शामिल हुए तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता पुलिस अधीक्षक राजेश धर्माणी ने की। इस अवसर पर केके सरोच ने कहा कि यशपाल जहां साहित्यकार, कवि व लेखक थे, वहीं भारत के स्वतंत्रता संग्राम के आंदोलन में भी उनकी अग्रणी भूमिका रही थी। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए पुलिस अधीक्षक राजेश धर्माणी ने कहा कि इस तरह के आयोजनों से देश की आजादी में योगदान देने वाले वीर सपूतों को याद करने व उन्हें श्रद्धांजलि देने का अवसर मिलता है तथा युवा पीढ़ी को इतिहास व देश की आजादी में योगदान देने वालों के बारे में जानकारी मिलती है। परियोजना अधिकारी, एकीकृत जनजातीय विकास परियोजना एवं जिला भाषा अधिकारी केलांग स्मृृतिका नेगी ने बताया कि यशपाल की जयंती के अवसर पर आयोजित कवि सम्मेलन में स्थानीय कवियों ने हिंदी, पहाड़ी, भोटी तथा स्थानीय भाषा में कविता पाठ किया। कविता पाठ में कवि अशोक राणा ने इस देश न आना लाडो, जय प्रकाश शर्मा  ने बहाना ढूंढते रहते हैैं हम, हीरा लाल ने प्रदूषण से देश बचाओ’, कुंदन शर्मा ने मां’, शिव राम शर्मा ने मंडयाली कविता फुल तां होरिए नीते बेलां असें पालियां’, तथा लेडी आफ  केलांग नवांग उपासक ने भोटी लोक गाथा, पूनम ने खुशी सागर में लहरों और मंझधार में किनारा है, सोनम डोलमा नेे बेटी होने का एहसास नहीं, पुष्पा ने ‘जन्म लिया बेटी ने तो आंसू बहने लगे’ तथा अनिता ने बेटी तुम हो मान हमारा कविता प्रस्तुत की। इस अवसर पर उपमंडलाधिकारी अमर नेगी सहित गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे।

 

You might also like