कैब की आग में जल उठा असम

गुवाहाटी – नागरिकता संशोधन विधेयक (कैब) के खिलाफ असम में तनावपूर्ण हालात बने हुए हैं और हिंसक प्रदर्शनों का दौर जारी है। गुरुवार सुबह राजधानी गुवाहाटी में लोगों ने कर्फ्यू का उल्लंघन किया। राज्य में तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए सेना ने फ्लैग मार्च किया है और पुलिस अधिकारियों का तबादला किया गया है। हिंसा को रोकने के लिए कुछ जगहों पर पुलिस को गोली भी चलानी पड़ी है। सीएम ने प्रदर्शनकारियों से शांति बनाए रखने की अपील की है। विधेयक के विरोध को लेकर असम में जारी आंदोलन ने जहां उग्र रूप अख्तियार कर लिया है, वहीं भाजपा और आरएसएस के कई प्रमुख नेताओं के आवासों पर हमले की रिपोर्टें हैं।  केंद्र सरकार ने स्थिति पर नियंत्रण के लिए पांच हजार से अधिक अर्द्धसैनिक बल के जवानों की 24 टुकडि़यों को भेजने का निर्णय लिया है। प्रदर्शनकारियों ने मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल, केंद्रीय मंत्री रामेश्वर तेली और बहुत से अन्य भाजपा नेताओं के आवासों पर हमला किया है। श्री सोनोवाल के उत्तरी असम के डिब्रूगढ़ स्थित आवास पर प्रदर्शनकारियों ने बुधवार रात हमला किया और पथराव किया। प्रदर्शनकारियों ने दुलिजन में श्री तेली के आवास पर भी हमला किया तथा भाजपा विधायक प्रशांत फूकन के आवास पर तोड़फोड़ की। राज्य के विभिन्न स्थानों पर आरएसएस के कार्यालयों पर भी हमले की रिपोर्टें हैं। नागरिकता बिल को लेकर जारी हिंसा के बीच असम में दस जिलों में इंटरनेट सेवाओं पर लगाई गई रोक की अवधि को गुरुवार की दोपहर  से 48 घंटे के लिए और बढ़ा दिया गया।

त्रिपुरा में हालात तनावपूर्ण

अगरतला – नागरिकता संशोधन विधेयक को वापस लेने की मांग को लेकर आदिवासियों की क्षेत्रीय पार्टियों और नागरिक संगठनों के संयुक्त आंदोलन के कारण त्रिपुरा में स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। सीएबी के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा में पिछले 24 घंटों के दौरान खोवाई जिला के तेलियामुरा में दो लोगों की मौत हुई है, जबकि राज्य के विभिन्न जगहों पर दो पुलिसकर्मियों सहित 11 लोग घायल हुए हैं।

You might also like