डीएवी का पेडा से समझौता

यूनिवर्सिटी ने नवीकरणीय ऊर्जा के अनुसंधान को किया एमओयू

जालंधर –डीएवी यूनिवर्सिटी, जालंधर ने पंजाब में नवीकरणीय ऊर्जा के अनुसंधान के लिए पंजाब एनर्जी डिवेलपमेंट एजेंसी (पेडा) के साथ एक एमओयू पर हस्ताक्षर किए हैं। एमओयू को पेडा के चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर नवजोत पाल सिंह रंधावा और यूनिवर्सिटी के वाइस-चांसलर डा. देश बंधु गुप्ता ने साइन किया है। डा. गुप्ता का प्रतिनिधित्व यूनिवर्सिटी-इंडस्ट्री लिंकेज सेल के को-ऑर्डिनेटर डा. राजेश खन्ना ने किया। बता दें कि पेडा पंजाब में एनर्जी कंजर्वेशन गतिविधियों के लिए नोडल एजेंसी है। दोनों एजेंसियां अब ऊर्जा संरक्षण के उद्देश्य से अनुसंधान परियोजनाओं को रणनीतिक अनुसंधान सहायता प्रदान करने के लिए काम करेंगी। श्री नवजोत पाल सिंह रंधावा ने कहा कि पेडा अपरंपरागत ऊर्जा के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए यूनिवर्सिटी को विशेषज्ञ, तकनीकी सामग्री और जानकारी प्रदान करेगा। उन्होंने कहा कि इस एमओयू का उद्देश्य शैक्षिक, अनुसंधान संस्थानों और प्रयोगशालाओं के माध्यम से जनता तक टेक्नोलोजी का प्रसार करना है। उन्होंने कहा कि डीएवी यूनिवर्सिटी और पेडा कार्बन फुटप्रिंट कम करने के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए कान्फ्रेंस, ट्रेनिंग और वर्कशॉप करेंगे। डीएवी यूनिवर्सिटी, जालंधर के कुलपति डा. देश बंधु गुप्ता ने कहा कि यूनिवर्सिटी-इंडस्ट्री लिंकेज को मजबूत करने के लिए एमओयू एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। यूनिवर्सिटी में छात्रों और शोधकर्ताओं की भागीदारी से अक्षय ऊर्जा को बढ़ावा देने का प्रयास किया जाएगा। एमपी सिंह, निदेशक, पेडा भी इस अवसर पर उपस्थित थे। उन्होंने ऊर्जा संरक्षण के लिए पहल करने के लिए डीएवी यूनिवर्सिटी के प्रयासों की सराहना की। डीएवी यूनिवर्सिटी के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर के दौरान जसपाल सिंह, अतिरिक्त निदेशक, परमजीत सिंह, प्रबंधक (ईसी), और मन्नी खन्ना, परियोजना अभियंता भी मौजूद रहे।

 

You might also like