‘नशे की रोकथाम से ही होगा समस्त समाज का उत्थान’

सोलन – सोलन जिला की सभी 211 ग्राम पंचायतों में गुरुवार को ‘नशे की रोकथाम से ही होगा समस्त समाज का उत्थान’ और ‘प्रत्येक विषय में जागरूक होना सशक्त महिला की पहचान’ के स्वर ने जन-जन को नशाखोरी के विरुद्ध प्रेरित किया। जिला की सभी ग्राम पंचायतों में महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा मादक द्रव्यों एवं मदिरा के व्यसन के विषय में ग्रामीणों को जागरूक किया गया। जिला की सभी ग्राम पंचायतों में आयोजित नशा निवारण शिविरों में विशेष रूप से महिलाओं और बच्चों को नशाखोरी के दुष्परिणाम और नशे से होने वाली सामाजिक, आर्थिक हानि के बारे में अवगत करवाया गया। महिलाओं व बच्चों को बताया गया कि देश का भविष्य युवा शक्ति पर निर्भर करता है। हमारे परिवार भी तभी संपन्न होंगे जब हमारा प्रदेश और देश तरक्की की राह पर अग्रसर होगा। इसके लिए हमारे युवाओं का पूर्ण रूप से स्वस्थ एवं जागरूक होना आवश्यक है। यह तभी संभव है जब युवा शक्ति को नशे जैसी सामाजिक बुराई से दूर रखा जा सके। शिविरों में महिलाओं से आग्रह किया गया कि वे अपने घर पर खासतौर पर अपने बच्चों के व्यवहार पर ध्यान दें। मां को सर्वप्रथम यह जानकारी हो जाती है कि बच्चों की संगत कहीं गलत तो नहीं। यह जानकारी मिलने पर सभी महिलाओं को न केवल अपने बच्चों को गलत संगत से दूर करना होगा अपितु यह प्रयास भी करना होगा कि उनके अन्य साथियों को भी सही दिशा में लेकर जाया जा सके। शिविरों में अवगत करवाया गया कि इस दिशा में अध्यापकों तथा वरिष्ठ नागरिकों का सहयोग अत्यंत आवश्यक है। महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने विभिन्न आंगनबाड़ी केंद्रों में नशाखोरी के विरुद्ध गर्भवती माताओं एवं छोटे बच्चों को भी जानकारी प्रदान की। छोटे बच्चों को कहा गया कि वे  अपने बड़े भाई-बहनों के विषय में बिना डरे माता-पिता को सूचित करें। इन शिविरों में नशे की विभिन्न किस्मों और इनसे होने वाली आर्थिक हानि की जानकारी दी गई। बताया गया कि नशे के आदि व्यक्ति को समय पर चिकित्सीय परामर्श मिलना आवश्यक है। विभिन्न नारों के माध्यम से महिलाओं तथा युवाओं को जागरूक किया गया। इन जागरूकता शिविरों में ‘नशे पर चर्चा’ कार्यक्रम आयोजित किए गए तथा उपस्थित प्रतिभागियों को नशे से होने वाले विभिन्न रोगों व इनके बचाव के संबंध में जानकारी प्रदान की गई। इन शिविरों में जिला भर में 3500 से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लिया। इस अवसर पर सभी ग्राम पंचायतों में आयोजित शिविरों में प्रतिभागियों को नशे के विरुद्ध शपथ भी दिलाई गई। इस अवसर पर विभिन्न पंचायतों के प्रतिनिधि, वार्ड सदस्य, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिकाएं एवं बड़ी संख्या में महिलाएं तथा बच्चे उपस्थित रहे।

You might also like