नागरिकता बिलः असम में उग्र हुआ प्रदर्शन, इंटरनेट सेवाओं पर रोक

गुवाहाटी – नागरिकता संशोधन बिल (कैब) को लेकर असम में विरोध प्रदर्शन और उग्र होता जा रहा है। बुधवार को प्रदर्शनकारियों ने राजधानी दिसपुर में जनता भवन के नजदीक बसों को आग के हवाले कर दिया। जानकारी के मुताबिक, हिंसक होते प्रदर्शन के मद्देनजर प्रशासन भी सतर्क हो गया है और प्रदेश के 10 जिलों में बुधवार शाम 7 बजे से इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई है। इंटरनेट सेवाओं पर यह रोक 12 दिसंबर शाम 7 बजे तक लखीमपुर, तिनसुकिया, ढेमाजी, डिब्रूगढ़, चरायदेव, शिवसागर, जोरहाट, गोलघाट, कामरूप मेट्रो और कामरूप जिले में लगाई गई है। गौरतलब है कि नागरिकता संशोधन बिल को लेकर असम में प्रदर्शन के दौरान प्रोटेस्टर्स की पुलिस से भी झड़प की खबर सामने आई है। इस दौरान पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले भी दागे। प्रदर्शन को बढ़ता देख डिब्रूगढ़ में सेना बुला ली गई है। इस बीच कई ट्रेनों को या तो रद्द कर दिया गया है, या फिर उनके रास्ते बदल दिए गए हैं। कई ट्रेनों के टाइम-टेबल में भी बदलाव किया गया है। राजधानी में बड़ी संख्या में छात्र प्रदर्शनकारियों को सचिवालय की ओर बढ़ते देखे जाने के बाद पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश की। इस दौरान पुलिस की छात्रों से झड़प भी हुई। छात्रों ने इस दौरान जीएस रोड पर अवरोधक को तोड़ दिया, जिसके बाद पुलिस ने लाठी चार्ज किया। छात्रों पर आंसू गैस के गोले भी दागे गए, जिसे उठाकर छात्रों ने पुलिसकर्मियों पर फेंक दिया। छात्रों ने बताया कि उनमें से कई लाठीचार्ज में घायल हो गए। उन्होंने कहा, ‘सर्बानंद सोनोवाल के नेतृत्व में बर्बर सरकार है। जब तक सीएबी वापस नहीं लिया जाता है, तब तक हम किसी दबाव में नहीं आएंगे।’

You might also like