नागरिकता बिल: त्रिपुरा में सुरक्षाबल तैनात, असम के 10 जिलों में इंटरनेट सेवा बंद, फ्लाइट्स कैंसल

नागरिकता संशोधन बिल: असम के 10 ज़िलों में इंटरनेट और मोबाइल फोन पर प्रतिबंध, त्रिपुरा में हिंसक प्रदर्शननागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर व्यापक विरोध-प्रदर्शन के बीच बिगड़ती कानून-व्यवस्था को संभालने के लिए असम के गुवाहाटी में कर्फ्यू की मियाद को अनिश्चितकाल के लिए बढ़ा दिया गया है। हालात पर नियंत्रण के लिए यहां सेना की दो टुकड़ियां तैनात की गई हैं। असम के 10 जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवा पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया है। उधर, त्रिपुरा में भी विरोधी प्रदर्शनों के बीच असम राइफल्स को तैनात कर दिया गया है। असम राइफल्स की एक-एक टुकड़ी को त्रिपुरा के कंचनपुर और मनु में तैनात किया गया है। उधर, विरोध प्रदर्शन को देखते हुए असम में कई उड़ानें रद्द कर दी गई हैं।

सेना के एक प्रवक्ता ने बताया कि असम के बोंगाईगांव और डिब्रूगढ़ में किसी भी स्थिति से निपटने के लिए एक अन्य टुकड़ी को तैयार रहने को कहा गया है। असम में बुधवार शाम 6.15 बजे कर्फ्यू लगाया गया था जिसे अब अनिश्चितकाल के लिए बढ़ा दिया गया है। सेना प्रवक्ता ने कहा, ‘हम समय-समय पर स्थिति की समीक्षा करेंगे और उसी के अनुसार कर्फ्यू हटाने का निर्णय लेंगे।’

मंत्री के चाचा की दुकान में लगाई आग
उधर, डिब्रूगढ़ से बीजेपी सांसद रामेश्वर तेली ने कहा, ‘बुधवार रात लगभग 11 बजे मेरे चाचा की दुकान में आग लगा दी गई और मेरे घर की बाउंड्री वॉल को भी प्रदर्शनकारियों ने क्षतिग्रस्त कर दिया। मैं असम के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करता हूं। मैं खुद असमिया हूं। मैं ऐसा कुछ नहीं करूंगा, जिससे असम के लोग आहत हों। मैं सभी को आश्वस्त करना चाहता हूं कि जो विधेयक पारित किया गया है, वह असम की संस्कृति और भाषा को प्रभावित नहीं करेगा।’

छात्र और पुलिस में हुई झड़प
असम में बुधवार को नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतर आए। उनकी पुलिस के साथ झड़प हुई और इससे राज्य में अराजकता की स्थिति पैदा हो गई। हालांकि किसी पार्टी या छात्र संगठन ने बंद का आह्वान नहीं किया है। प्रदर्शनकारियों में ज्यादातर छात्र शामिल हैं, जिनकी सुरक्षा बलों के साथ झड़प हुई।

You might also like