मेडिकल कालेज में दवाइयों की लिस्ट गायब

फ्री मेडिसिन लेने के लिए भटक रहे मरीज; बाहर जाकर महंगे दामों पर खरीदने को मजबूर, काउंटर पर सूची लगाना जरूरी

हमीरपुर – डा. राधाकृष्णन मेडिकल कालेज एवं अस्पताल हमीरपुर में दवाइयों के काउंटर से निःशुल्क दवाइयों की लिस्ट गायब हो गई है। इस कारण मरीजों को निशुल्क दवाइयों की जानकारी हासिल करने के लिए पूछताछ करनी पड़ रही है। हालांकि ऐसा नहीं है कि काउंटर पर दवाइयों नहीं है। लगभग सभी दवाइयां निःशुल्क दवाई काउंटर पर उपलब्ध हैं। पूर्व में अस्पताल में कुछेक दवाइयों की सूची काउंटर के बाहर लगी हुई थी। इनमें इशंसियल ड्रग्स लिस्ट की दवाइयां भी शामिल थी। अब अस्पताल प्रबंधन ने इस सूची को हटा दिया है। इसके अभाव में काउंटर पर भीड़ की स्थिति में लोगों को काउंटर में मौजूद दवाइयों का पता नहीं लग रहा है। पूर्व में भीड़ की स्थिति में लोग काउंटर की सूची के पढ़कर दवाइयों का स्टॉक पता कर लेते थे। लिस्ट पढ़कर पता चल जाता था कि कौन सी दवाई उपलब्ध है और कौन सी नहीं। अगर दवाइयां सूची में मौजूद होती तो वह लाइन में लगते, अन्यथा बाहरी मेडिकल स्टोर से ले आते। अब लोगों को सूची के अभाव में यह जानकारी नहीं मिल पा रही है। इसके अलावा अस्पताल में कई इशंशियल ड्रग्स लिस्ट की दवाइयां भी नहीं मिल रही है। इनमें से एक लिवोसिट्राजिन भी है। ऐसे में लोगों को बाहरी मेडिकल स्टोर से यह दवाइयां रुपए देकर खरीदनी पड़ रही है। काउंटर पर सोमवार और मंगलवार को गर्भवतियों व अन्य लोगों को दी जाने वाली कैल्शियम की खुराक भी नहीं मिली थी। स्टोर से काउंटर पर यह स्टॉक पहुंचा ही नहीं था। बुधवार को स्टॉक आने के बाद यह दवाई लोगों को मिलना शुरू हुई हैं। काउंटर पर आए दिन दवाइयों की कमी के चलते लोगों को सरकार के 330 दवाइयां मुफ्त उपलब्ध करवाने की योजना का लाभ सही ढंग से नहीं मिल पा रहा।

लोगों ने अस्पताल प्रबंधन और विभाग से काउंटर पर सभी दवाइयां उपलब्ध करवाने की मांग की है।

You might also like