राठौर की ‘रणनीति’ से वरिष्ठ कांग्रेसियों ने किया किनारा

अग्निहोत्री सहित 21 में से 18 विधायक बैठक से नदारद

शिमला-हिमाचल प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर की अध्यक्षता में मोदी सरकार के खिलाफ रणनीति बनाए जाने के लिए आयोजित बैठक से वरिष्ठ कांग्रेसियों ने किनारा कर लिया। हालांकि कुलदीप सिंह राठौर ने पार्टी के सभी 21 विधायकों, पूर्व मंत्रियों सहित पूर्व विधायकों को इस अहम बैठक में उपस्थित होने को कहा था, लेकिन अधिकांश नेताओं ने इसमें कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। यहां तक कि नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री भी नदारद रहे। गुरुवार को कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में हुई इस बैठक से साफ जाहिर है कि कार्यकारिणी भंग होने के कारण पार्टी के वरिष्ठ नेता कुलदीप सिंह राठौर के साथ नहीं हैं। प्रदेश विधानसभा में 21 विधायकों वाली कांग्रेस की हालात यह है कि पीसीसी चीफ कुलदीप सिंह राठौर की बैठक में मात्र तीन विधायक ही मौजूद रहे। रोहडू़ के विधायक मोहन लाल ब्राक्टा, रामपुर के विधायक नंदलाल और बड़सर के विधायक इंद्रदत लखनपाल और नालागढ़ से लखविंद्र सिंह राणा ही मौजूद रहे। पूर्व मंत्रियों में प्रकाश चौधरी, चंद्र कुमार और गंगूराम मुसाफिर ही उपस्थित रहे। वहीं, पूर्व विधायकों में अजय महाजन, रवि ठाकुर, मनसा राम, कुलदीप सिंह पठानिया, यादविंदर गोमा और आदर्श सूद ने ही हाजिरी लगाई। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष की कुर्सी के लिए दिल्ली से तार जोड़ रहे विधायक रामलाल ठाकुर, हर्षवर्धन चौहान और पूर्व मंत्री कौल सिंह ठाकुर ने भी इस बैठक से किनारा किया। यही नहीं, बल्कि पूर्व मंत्री जीएस बाली, सुधीर शर्मा, विधायक आशा कुमारी सहित ऐसे नेताओं ने राठौर की इस बैठक से दूरियां बनाए रखीं, जो प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की कुर्सी के लिए सियासत कर रहे हैं। हालांकि पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह भी बैठक में उपस्थित नहीं हुए। कारण यह है कि वे इन दिनों स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ विधानसभा का शीतकालीन सत्र भी अगले सप्ताह से शुरू होना है, लेकिन हैरानी की बात है कि नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने भी दिलचस्पी नहीं ली। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष एवं विधायक सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने भी बैठक में आने से गुरेज किया। बताया गया कि कुलदीप सिंह राठौर ने शिमला में होने वाली बैठक के लिए एक सप्ताह पहले ही सभी नेताओं को फोन पर भी अवगत करवा दिया था। बावजूद इसके वरिष्ठ नेताओं ने राठौर को आईना दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। उधर, पीसीसी चीफ कुलदीप सिंह राठौर ने कहा कि शिमला में आयोजित बैठक के बारे सभी नेताओं, पूर्व मंत्रियों सहित विधायक एवं पूर्व विधायकों को अवगत करवाया गया था। जो लोग नहीं आ पाए, उन्होंने अपने कारणों के बारे मुझे फोन पर बता दिया। शुक्रवार को भी पूर्व जिला और ब्लॉक अध्यक्षों की बैठक बुलाई है।

भंग ब्लॉक-जिला कार्यकारिणी पर मंथन आज

कांग्रेस हाइकमान ने हालांकि सभी कमेटियां भंग कर दी हैं, लेकिन प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने शुक्रवार को ऐसी कमेटियों के पूर्व अध्यक्षों की बैठक बुलाई है। इसमें ब्लॉक और जिला कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष शामिल होंगे। कुलदीप सिंह राठौर भंग हुई कमेटियों के सहारे संगठन को फिर से जिंदा करने की कवायद कर रहे हैं।

हम पार्टी के लिए काम कर रहे हैं, करते रहेंगे

पीसीसी चीफ कुलदीप सिंह राठौर की बैठक से नदारद रहे कांगेस के वरिष्ठ नेताओं का कहाना था कि हम पार्टी के लिए काम कर रहे हैं और करते रहेंगे। पूर्व मंत्री एवं पार्टी के पूर्व अध्यक्ष कौल सिंह ठाकुर ने कहा कि मैं काफी व्यस्त था, जिस कारण शिमला की बैठक में नहीं आ सका। वे पार्टी के सच्चे सिपाही हैं। उधर, विधायक रामलाल ठाकुर इन दिनों दिल्ली दरबार में ही डटे हुए हैं, जिस कारण वे बैठक में उपस्थित नहीं हो पाए।

You might also like