राहत न मिलने पर बंद हो सकती वोडाफोन-आइडिया

नई दिल्ली-दूरसंचार सेवाएं प्रदान करने वाली कंपनी वोडाफोन आइडिया लिमिटेड के अध्यक्ष कुमार मंगलम बिरला ने शुक्रवार को कहा कि उनकी कंपनी ने सरकार से जो राहत की मांग की है यदि वह नहीं मिली तो कंपनी को बंद करना पर सकता है। श्री बिरला ने कहा कि सरकार द्वारा राहत नहीं दिए जाने पर उनका समूह अब इस कंपनी में निवेश नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि राहत नहीं मिलने पर उनका समूह इनसॉल्वेंसी का रास्ता अपनाएगी। श्री बिरला आदित्य बिरला समूह के भी अध्यक्ष हैं। देश में टेलीकॉम उद्योग में जारी गलाकाट प्रतिस्पर्धा के कारण वोडाफोन का आइडिया में विलय कर संयुक्त उपक्रम वोडाफोन आइडिया बनाया गया है। उच्चतम न्यायालय ने वोडाफोन, आइडिया और भारती एयरटेल पर सकल राजस्व में मुख्य कारोबार से इतर राजस्व को शामिल करने और लाइसेंस शुल्क एवं स्पेक्ट्रम उपयोग शुल्क के तौर पर कुल मिलाकर 81 हजार करोड़ रुपए भुगतान करने का आदेश दिया था। इस पर जुर्माना और ब्याज का भी भुगतान करना होगा। उच्चतम न्यायालय के इस आदेश के बाद इस राशि के भुगतान के लिए प्रावधान करने के कारण वोडाफोन आइडिया को चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 50,921 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। एयरटेल को भी 20 हजार करोड़ रुपये से अधिक घाटा हुआ है। इसके बाद इन कंपनियों के वरिष्ठ अधिकारियों ने सरकार के प्रतिनिधियों से मुलाकात कर राहत दिए जाने की अपील की है।

You might also like