विपक्ष का चौथी बार वाकआउट

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों की स्थापना पर गरमाया माहौल, आज काले बिल्ले लगाकर आएगा

धर्मशाला –धौलाधार पर वर्फबारी और कंपकंपाती ठंड के बावजूद तपोवन में खूब गर्मी देखने को मिली। विपक्ष ने सुबह प्रश्नकाल से पहले ही आक्रामक रुख अपनाते हुए सरकार को घेर लिया। इसके बाद सूक्ष्म लघु और मध्यम उद्यमों की स्थापना बिल पर नोकझोंक के बाद विपक्षी सदस्यों ने नारेबाजी करते हुए सदन से वाकआउट कर दिया। अब तक हुए पांच दिन के सत्र में कांग्रेस चार वार वॉकआउट कर चुकी है। नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने बिल को पास करने के विरोध में इसे काला दिवस बताते हुए सत्र के अंतिम दिन काले बिल्ले लगाकर सदन में आने की बात कही।  नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने बिल के विरोध में कहा कि सरकार की मंशा हिमाचल को बेचने की है। एक बार फिर से हिमाचल इज ऑन सेल के रास्ते पर डाला जा रहा है। विपक्ष सरकार को ऐसा कतई नहीं करने देगी और इसका सदन के भीतर और बाहर भी कड़ा विरोध किया जाएगा। सदन के बाहर मीडिया से बातचीत में श्री अग्निहोत्री ने कहा कि इस बिल के जरिए कोई भी उद्योगपति किसी भी कानून के लिए बाध्य नहीं होगा तथा वह कहीं भी भवन निर्माण कर सकेगा। अगर सरकार इस बिल को पारित करती है, तो हिमाचल के इतिहास में यह काला अध्याय होगा। इससे पहले भी पूर्व की भाजपा सरकार ने हिमाचल को बेचने का काम किया था। अब जयराम सरकार भी उसी रास्ते पर चल रही है। उन्होंने  बिल को पूंजीपतियों की मदद वाला बिल करार दिया और कहा कि सरकार ने इस बिल को लाकर बाहरी उद्योगपतियों के लिए लूट का रास्ता खोल दिया है। तीन साल तक किसी भी पूंजीपति को टीसीपी, रोड साइड एक्ट और फायर कानून की अनुमति लेने की जरूरत नहीं होगी।

विपक्ष संग सिंघा

विपक्ष के साथ माकपा विधायक राकेश सिंघा ने भी बिल का विरोध कर कांग्रेस के साथ वाकआउट किया। उन्होंने कहा कि यह जल्दबाजी में लाया गया कानून है। इससे पूर्व भी साल 2000 में भी ऐसा ही कानून लाकर एक लाख 63 हजार लोगों ने जमीनों के लिए आवेदन किया था, जो आज भी बेघर हैं।

सरकार के पक्ष पठानिया

मामले पर सरकार के पक्ष में खड़े होते हुए विधायक राकेश पठानिया ने कहा कि प्रदेश में उद्योगपति आ रहे हैं, कोई उग्रवादी नहीं। विपक्ष बेवजह मामले को बढ़ा-चढ़ाकर पेश कर रहा है, जबकि एमएसएमई का पॉजिटिव बिल आया है। ईज आफ डूइंग एक्ट में सारे बातें स्पष्ट हैं।

You might also like