स्प्रे पंप से ही करें दवाई का छिड़काव

टौणीदेवी – कृषि विज्ञान केंद्र बड़ा के डा. चमन चौहान ने कहा कि कृषकों को नकदी फसलों की ओर अधिक ध्यान देना चाहिए। जिससे वह कृषि के साथ ही आमदनी भी बढ़ा सकें। उन्होंने कहा कि किसानों को आधुनिक तरीके से खेती करने की जरूरत है। टौणीदेवी में गुरुवार को कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर व कृषि विज्ञान केंद्र बड़ा के संयुक्त तत्त्वावधान में कृषि जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। इसमें स्थानीय किसानों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। कृषि विवि पालमपुर की ओर से डा. सुरेश गौतम व डा. नीलम, कृषि विज्ञान केंद्र बड़ा की ओर से डा. नवनीत जरयाल, डा. प्रवीण शर्मा, डा. चमन लाल चौहान व रेखा डोगरा ने भाग लिया। कृषि वैज्ञानिकों ने अपने-अपने विषय पर विस्तृत सलाह किसानों को खेती के बारे में दी, जिसमें किसानों को बताया गया कि इन दिनों खरपतवार मारने के लिए कौन सी दवाई का छिड़काव करना चाहिए। इसके साथ ही यह भी बताया कि दवाई का छिड़काव हमेशा स्प्रे पंप से ही करें। मिट्टी व राख से दवाई का प्रयोग खेतों में न करें तथा उपयुक्त मात्रा में ही छिड़काव करें। ज्यादा दवाई के छिड़काव से कई नुकसान भी है। उन्होंने बताया कि किसान कभी भी किसी जानकारी के लिए कृषि विज्ञान केंद्र या विभाग के टोल फ्री नंबर पर आवश्यक जानकारी प्राप्त कर सकते है। कृषकों की सहायता के लिए विभाग व वैज्ञानिक निरंतर सेवारत है। इस दौरान बागवबानी से संबंधित जानकारी भी दी गई। कार्यक्रम में टपरे पंचायत के उपप्रधान अजय कुमार, वार्ड सदस्य दरकोटी हरनाम शर्मा, टपरे की संतोष कुमारी, गब्बा की सरोज कुमारी, ग्रामीण हाकम डोगरा, देश राज शर्मा, प्रदीप काकू, अमरनाथ मलकानिया, मिंटी, विजय भागवाल, दीना नाथ, रवि कुमार, निर्मल सिंह, प्रशोतम राठौर सहित कई अन्य लोग मौजूद रहे। कृषि शिविर के सफल आयोजन के लिए स्थानीय बीडीसी सदस्य प्रेम लता ने भी आयोजकों को बधाई दी है तथा इस तरह के शिविरों का निरंतर आयोजन होना चाहिए। जिससे ग्रामीण अधिक से अधिक लाभ उठा सकें।

You might also like