आफत की बारिश… 90 सड़कें ठप

 शिमला में मौज-मस्ती करने आए सैलानियों संग आमजन को हो रही दिक्कत, और तेज हुई शीतलहर

शिमला-शिमला में मौसम के कड़े तेवर से लोगों  का जीवन अस्त व्यस्त  हो  गया है। दो दिनों से शिमला में जहां लगातार बारिश हो रही है, वहीं जिला के ऊपरी क्षेत्रों में भारी हिमपात की वजह से सड़क मार्ग बंद हो गए हैं। जानकारी के अनुसार जिला में 90 से ज्यादा सड़कें बाधित हैं। जिस वजह से बसों व छोटी गाडि़यों की आवाजाही भी पूरी तरह से बंद है। जिला में दो-तीन दिन से खराब चल रहे मौसम से शिमला घूमने आए पर्यटकों के साथ आम जनमानस की मुसीबतें भी बढ़ गई हैं। हिल्सक्वीन सहित जिला के ऊपरी क्षेत्रों में अधिकतम व न्यूनतम तापमान में काफी गिरावट दर्ज की जा रही है। मंगलवार को शिमला का न्यूनतम तापमान माइनस 0.1 दशमलव दर्ज किया गया। इसके साथ कुफरी का न्यूनतम तापमान माइनस 3.4 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। अहम यह है कि शिमला में मंगलवार शाम तक झमाझम बारिश तो हुई, लेकिन बर्फबारी नहीं हो पाई।  फिलहाल जिला में भारी बर्फबारी के कारण अवरूद्ध सड़कों को खोलने का काम जिला प्रशासन और संबंधित विभागों द्वारा युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। उपायुक्त शिमला अमित कश्यप ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि शिमला ग्रामीण क्षेत्र में ढली-कुफरी, कुफरी-चायल सड़क बर्फबारी के कारण बंद है, जबकि ठियोग-शिमला मुख्य सड़क व ठियोग क्षेत्र में अन्य 9 सड़कें भारी बर्फ के कारण अवरुद्ध हैं। चौपाल क्षेत्र में शिमला-चौपाल सड़क के साथ-साथ 13 अन्य संपर्क मार्ग बंद हैं। उन्होंने बताया कि रोहडू-खड़ा पत्थर सड़क भारी बर्फबारी के कारण बंद है, जबकि रोहडू के विभिन्न क्षेत्रों में 26 संपर्क मार्ग, चिड़गांव क्षेत्र के तहत 24 संपर्क मार्ग व टिक्कर क्षेत्र में 18 संपर्क मार्ग भारी बर्फबारी के कारण बंद हो गए हैं। नारकंडा सड़क शिमला-रामपुर सड़क नारकंडा के पास भारी बर्फबारी के कारण बंद है। वहीं, डोडराक्वार में सभी मार्ग बर्फबारी के कारण अवरूद्ध हैं। उन्होंने बताया कि बर्फ बाहुल्य क्षेत्रों में हिमाचल पथ परिवहन निगम द्वारा बसों की आमद नहीं की जा रही है, जबकि चौपाल के लिए बस वाया सोलन, रोहडू के लिए वाया पावंटा साहिब, रामपुर के लिए वाया बसंतपुर चलाई जा रही है। शिमला शहरी, ग्रामीण, ठियोग व चैपाल क्षेत्र से विद्युत आपूर्ति सामान्य है, जबकि रोहडू में रोहडू, चैहारा, टिक्कर और डोडरा-क्वार में विद्युत आपूर्ति को सुचारू बनाए रखने के लिए विभाग के कर्मचारी व अधिकारी कार्य कर रहे हैं। जिला के सभी क्षेत्रों में पेयजल आपूर्ति के बाधित होने की कोई सूचना नहीं है। उन्होंने बताया कि विभागीय उपकरणों के तहत जिला में लगभग 23 जेसीबी व अन्य उपकरणों के माध्यम से अवरुद्ध सड़कों के खोलने का कार्य किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त डोजर व रोबोट का उपयोग कर यातायात सामान्य बनाए रखने के लिए कार्य किए जा रहे हैं। उन्होंने लोगों से एहतियात बरतने व रात्रि में सफर न करने की अपील की है।

शहर में दिन भर छाई रही धुंध

बता दें कि मंगलवार को शिमला में दोपहर को भी अंधेरा-सा लग रहा था। दरअसल शहर में दिन भर धुंध छाई रही। इस वजह से शिमला पूरा दिन अंधेरे में ही डूबा रहा। ऐसा लग रहा था, मानो बरसात का मौसम आ गया हो। अहम यह है कि धुंध की वजह से शिमला का नजारा भी पर्यटकों को दिखाई नहीं दे रहा था।

हिल्सक्वीन में बर्फ न गिरने से पर्यटक मायूस

बाहरी राज्यों से बर्फ देखने आए पर्यटकों के चेहरे उस समय मायूस हुए, जब उन्हें शिमला में बर्फ देखने को नहीं मिली। दरअसल शिमला के ऊपरी मार्ग बंद होने के बाद शिमला में ही लाइव बर्फबारी देखने का इंतजार दो दिनों से पर्यटक कर रहे थे। मौसम खराब होने के बाद भी शहर में बर्फ के बीच खेलने का मौका पर्यटकों को नहीं मिल पाया, हालांकि बीच में बर्फ के थोड़े फाहे जरूर पड़े।

आपातकाल में इन नंबरों पर करें कॉल

बर्फबारी के दौरान पर्यटकों सहित स्थानीय लोगों को किसी समस्या का सामना न करना पड़े, इसके लिए जिला प्रशासन ने पहले से ही व्यवस्था कर रखी है। जिला उपायुक्त ने कहा है कि किसी भी आपात स्थिति में जिला आपदा प्रबंधन सेल के हेल्पलाईन नम्बर 1077 व दूरभाष नम्बर 0177-2800880, 2800881, 2800882, 2800883 पर सम्पर्क कर सकते हैं।

जिला में कल से मौसम साफ

शिमला जिला में कल से मौसम साफ रहेगा। शिमला मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार नौ और दस जनवरी को मौसम शुष्क बना रहेगा। वहीं उसके बाद ग्यारह जनवरी से पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने के बाद मौसम एक बार फिर से करवट लेगा और भारी बारिश और बर्फबारी इस दौरान होगी।

You might also like