ऊना में सेना भर्ती पर बवाल, एनएच जाम

गुस्साएं युवाओं ने भर्ती प्रकिया में धांधली के लगाए आरोप

दो युवाओं का दौड़ में घुसने का वीडियो खूब हो रहा वायरल

ऊना  – ऊना जिला के अंतर्गत ऊना मुख्यालय पर स्थित इंदिरा स्टेडियम में सोमवार को सेना भर्ती को लेकर बवाल मच गया है। युवाओं ने जहां चंडीगढ़-धर्मशाला नेशनल हाई-वे जाम कर दिया, वहीं सेना भर्ती के पांचवें दिन भर्ती के लिए पहुंचे युवाओं ने भर्ती में धांधली के आरोप लगाए हैं। उधर, सोशल मीडिया में भर्ती से संबंधित वीडियो भी वायरल हो रहा है, जिसमें दो युवा दौड़ के बीच में एंट्री करते हुए दिखाई दे रहे हैं। इसके चलते सैकड़ों युवाओं ने ऊना में जमकर हंगामा किया। जानकारी के अनुसार सोमवार को ऊना के इंदिरा स्टेडियम में हिमाचल, पंजाब के युवाओं के लिए भर्ती थी। हरियाणा राज्य के युवा भी जेसीओ भर्ती के लिए पहुंचे थे। इन युवाओं ने आरोप लगाया कि भर्ती दौड़ के दौरान उनसे भेदभाव किया गया। उन्हें दौड़ में कम समय दिया गया। इस पर युवाओं ने जमकर नारेबाजी भी की। हिमाचल के बिलासपुर जिला के कई ऐसे युवा भी भर्ती के लिए पहुंचे थे, जिन्हें शपथ पत्र न होने के चलते भर्ती से वंचित रहना पड़ा। सोमवार को भी भर्ती होने के चलते युवा अपने निर्धारित समय पर ग्राउंड में पहुंच गए। हिमाचल, हरियाणा के युवा भी भर्ती के लिए पहुंचे थे, लेकिन हरियाणा के युवाओं ने दौड़ में उन्हें कम समय देने का आरोप लगाया। कम समय मिलने के चलते युवा सड़क पर उतर आए। कई युवाओं को निर्धारित समय तक गेट पर न पहुंचने पर एंट्री नहीं मिल पाई। इसके चलते युवाओं ने चंडीगढ़-धर्मशाला नेशनल हाई-वे जाम कर दिया। युवा एनएच पर धरने पर बैठ गए। युवाओं का आरोप था कि वे समय पर पहुंचे थे, लेकिन भारी भीड़ के कारण मैदान में प्रवेश नहीं कर पाए। सुबह करीब एक घंटे तक युवा हाई-वे के बीच बैठे रहे। उधर, सूचना मिलते ही एडीसी ऊना अरिंदम चौधरी, एएसपी विनोद धीमान भी मौके पर पहुंचे और किसी तरह जाम खुलवाया।

वायरल वीडियो में दिखने वाले युवकों की पहचान, कानूनी कार्रवाई नहीं करेगी सेना

ऊना – ऊना के इंदिरा स्टेडियम में चल रही सेना भर्ती के दौरान दौड़ के चौथे राउंड में शामिल होते दो युवकों के वायरल वीडियो की पुष्टि हो गई है। भर्ती अधिकारी ने पूरे मामले को  सुलझाने का दावा किया है, वहीं आरोपित युवकों की पहचान कर ली गई है तथा युवकों के बिना शर्त माफी मांगने के बाद उनके विरुद्ध कोई कानूनी कार्रवाई न करने का भी निर्णय लिया गया है।  भर्ती प्रक्रिया से जुड़े सैन्य अधिकारियों ने भर्ती प्रक्रिया की सीसीटीवी फुटेज ख्ांगाली तो उसमें दो युवक अंधेरे से निकल कर दौड़ में शामिल होते दिखाई दे रहे हैं। वहीं दोनों युवकों द्वारा बिना शर्त गलती कबूल करने के बाद सेना भर्ती विंग ने इस मामले में किसी भी कानूनी कार्रवाई न करने का फैसला लिया है। भर्ती अधिकारी कर्नल सतीश कुमार ने प्रेस वार्ता के दौरान दोनों युवकों की पहचान का दावा किया है। उन्होंने युवकों की इस हरकत में सेना के किसी भी अधिकारी की संलिप्तता से इनकार किया है। कर्नल सतीश कुमार ने कहा कि सीसीटीवी फुटेज के आधार पर ही युवाओं की पहचान हुई है। पूरे भर्ती स्थल में सीसीटीवी स्थापित किए गए हैं। उन्होंने बताया कि दोनों युवक अंधेरे का लाभ उठाकर इस हरकत को अंजाम देने में कामयाब रहे थे। मामले में खुलासा हुआ कि दो युवक भर्ती के लिए दौड़ में शामिल हुए, लेकिन अंधेरे का फायदा उठाते हुए पहले चक्कर के बीच में ही दौड़ से निकल कर साइड में खड़े हो गए और जैसे ही दौड़ का अंतिम चक्कर नजदीक पहुंचा तो वे दोनों फिर से दौड़ में शामिल हो गए। सेना अधिकारी कर्नल सतीश कुमार ने दावा किया कि दोनों युवाओं की पहचान करके उनसे पूछताछ की गई। हमीरपुर भर्ती कार्यालय के निदेशक कर्नल सतीश कुमार ने बताया कि दोनों युवकों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है। भर्ती अधिकारी कर्नल सतीश कुमार ने कहा कि दोनों युवकों के भविष्य को देखते हुए सेना द्वारा कोई कानूनी कार्रवाई नहीं की जाएगी। कर्नल सतीश कुमार ने कहा कि इसमें किसी प्रकार की कोई धांधली नहीं हुई है। बता दें कि सोमवार सुबह भर्ती स्थल पर 3733 युवाओं का पंजीकरण किया गया, जिसमें से 2532 ने दौड़ में भाग लिया। इनमें से 522 ने ग्राउंड टेस्ट क्लीयर किया।

You might also like