दाड़लाघाट में बिछी ओलों की सफेद चादर

ओलावृष्टि से मिनटों में मौसम ने बदला रुख, पारा लुढ़कने से घरों में दुबके लोग

दाड़लाघाट – शनिवार दोपहर तेज धूप से बदले मौसम ने जबरदस्त अंगड़ाई ली और ओलावृष्टि ने मिनटों में वातावरण का माहौल बदल कर रख दिया। दाड़लाघाट व आसपास के क्षेत्रों के अलग-अलग हिस्सों में गिरे ओलों ने सड़कों पर सफेद गोलों की चादर बिछा दी। बारिश और ओलों की वजह से एक बार फिर तापमान तेजी से गिरा और दिन में ठंड से राहत महसूस कर रहे, स्थानीय लोग शाम को फिर घरों में दुबक गए। पिछले कई दिनों से क्षेत्र का मौसम बहुत ज्यादा सर्द था। पारा शून्य तक पहुंच गया था लेकिन शुक्रवार दिन में धूप निकलने से मौसम में ठंड का प्रकोप कुछ कम हुआ था। शनिवार दोपहर बाद अचानक मौसम का रुख बदलने लगा। आकाश में बादल छा गए और बिजली की चमक, गरज के बीच ओले गिरने लगे। दाड़लाघाट क्षेत्र में तो करीब 15 मिनट तक लगातार ओले गिरते रहे। इसके चलते सड़कों पर सन्नाटा छा गया। स्थानीय लोगों में अनिल गुप्ता, इंदर सिंह चौधरी, नरेंद्र सिंह चौधरी,ओम प्रकाश,राकेश, देवराज, उमेश, बृजलाल, प्रदीप, मंगल, योगेश, मुकेश, राजेंद्र कपिल, पंकज, मनोज, अमित, मदन, निशांत, संजू, राजू, अक्षय, शुभम आदि का कहना है कि शाम को गिरे ओलो से मौसम और ठंडा हो गया। ओले गिरने से धरती पर सफेद चादर सी बन गई। एकाएक ओले गिरने बाजार में बाहर खड़े लोगों में अफरा तफरी का माहौल हो गया। लोग ओले से बचने के लिए दुकानों में घुस गए। कुछ युवाओं व युवतियों को आसमान से गिरते बड़े-बड़े ओलों को अपने मोबाइल कैमरों में कैद करते हुए देखा गया। उनका कहना है कि ओलों से गेहूं की फसल के लिए फायदेमंद है। इससे फसल अच्छी होने के संकेत है। वहीं जिन्होंने प्याज की पैदावार की है उसके खराब होने के आसार हैं। 

You might also like