नघेता के स्टूडेंट्स को बांटे ट्रैक सूट

गिरिपार क्षेत्र के आंजभौज के युवा समाजसेवी मनीष तोमर ने दी सौगात

पांवटा साहिब – गिरिपार क्षेत्र के आंजभौज के युवा समाजसेवी मनीष तोमर ने नघेता स्कूल के सभी विद्यार्थियों को ट्रैक सूट भेंट किए। अपनी कार्यशैली और सामाजिक कार्यों के कारण अकसर आंजभौज क्षेत्र में चर्चा में रहने वाले युवा समाजसेवी मनीष तोमर जिनका मूल निवास स्थान ग्राम भेला है ने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय नघेता के सभी विद्यार्थियों को इस क्षेत्र की आर्थिक और भौगोलिक स्थिति को देखते हुए अपनी स्वेच्छिक निधि से ट्रैक सूट भेंट किए। आंजभौज क्षेत्र का नघेता विद्यालय उत्तराखंड की बर्फीली पहाडि़यों के बिल्कुल सामने पड़ता है, जिसके कारण सर्दियों में इस विद्यालय का तापमान कई बार शून्य से भी नीचे पहुंच जाता है। इस विकट भौगोलिक परिस्थिति से निपटने के लिए यहां दूरदराज क्षेत्र से जो विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण करने आते हैं उनके परिवार की आर्थिक स्थिति ज्यादा अच्छी नहीं है। मनीष तोमर ने इस दौरान अपने संबोधन में इलाके की विभिन्न समस्याओं पर चर्चा कर बच्चों को उन समस्याओं से निपटने के लिए प्रेरित एवं उनका मार्ग प्रशस्त किया। उन्होंने बच्चों को बताया कि वह स्वयं इस विद्यालय के विद्यार्थी रह चुके हैं और जिस समय वो पढ़ते थे उस समय संसाधनों का इस विद्यालय में ओर भी अधिक अभाव था। जिस कारण उनकी अपनी मंशा यह है कि जिन परेशानियों का सामना उन्हें करना पड़ा था आज के बच्चों को उनका सामना न करना पड़े। इसके साथ उन्होंने अपनी एक ज्वलंत ईच्छा यह भी जताई कि आने वाले समय में इस विद्यालय से पढ़े हुए बच्चे बड़े-बड़े प्रशासनिक पद, राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी व समाज में एक अच्छे नागरिक के रूप में अपनी भूमिका निभाएं। इस अवसर पर नघेता विद्यालय के प्रधानाचार्य दलीप सिंह नेगी ने इस भेंट के लिए मनीष तोमर का आभार व्यक्त किया व कहा कि इस नेक कार्य के लिए विद्यालय परिवार व अभिभावक संघ सदैव आपका ऋणी रहेगा। प्रधानाचार्य ने उनके आदर्श व्यक्तित्व की सराहना करते हुए कहा कि इस प्रकार के सामाजिक कार्य निरंतर होते रहने चाहिए, ताकि समाज के अन्य लोग भी इससे प्रेरणा ले सके। इस अवसर पर विद्यालय एसएमसी प्रधान प्रदीप शर्मा, वरिष्ठ सलाहकार सुमेर चंद शर्मा, एसएमसी सदस्य रूप सिंह, धर्म सिंह पुंडीर, रक्षा तोमर, पूर्व एसएमसी अध्यक्ष दीप चंद पुंडीर, भगत सिंह पुंडीर सहित काफी संख्या में अभिभावक व समस्त स्कूल स्टॉफ मौजूद रहा।

You might also like