मामले निपटाने को समिति तय

आईपीएच के खिलाफ दर्ज दावों की मॉनिटरिंग करेगी कमेटी

शिमला – सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य विभाग के खिलाफ कानूनी मामलों को निपटाने व इन मसलों को सुलझाने की दृष्टि से विभाग ने एक कमेटी का गठन किया है। यह कमेटी विभाग के खिलाफ हुए दावों की मॉनिटरिंग करेगी और देखेगी कि प्रतिवादियों द्वारा किए गए दावे सही हैं या फिर उनमें कमियां हैं। बता दें कि कई मामलों में ठेकेदारों या कांट्रैक्टर्ज की ओर से विभाग के खिलाफ कानूनी मामले दायर कर दिए जाते हैं, जबकि उन मसलों का पहले भी निराकरण हो सकता है। इनको पहले सुलझाया नहीं जाता और तब तक मामले अदालतों में चले जाते हैं, जिससे विभाग के खिलाफ लिटिगेशन बढ़ रही है। ऐसे मामलों की मॉनिटरिंग करने और इनको समय पर सुलझाने के लिए जो कमेटी बनाई गई है, वह ईएनसी आईपीएच की अध्यक्षता में होगी। ईएनसी के अधीन बनी इस कमेटी में जोनल चीफ इंजीनियर, अधीक्षण अभियंता आईपीएच संबंधित सर्किल, एक्सईएन संबंधित डिवीजन को इसमें सदस्य के रूप में रखा गया है। इनके अलावा ईएनसी कार्यालय में तैनात उपनिदेशक (कानून) इस कमेटी के सदस्य सचिव होंगे। इस कमेटी को यदि प्रतिवादियों के द्वारा किए गए दावे सही लगते हैं, तो यह सरकार को अपनी सिफारिश भेज सकती है, ताकि इन मामलों में किए गए दावों के मुताबिक क्लेम संबंधित व्यक्ति को दिया जा सके।  यदि इनमें भिन्नता रहती है, तो मामले सिविल कोर्ट के माध्यम से सुलझाए जाएंगे। आईपीएच विभाग के सचिव आरएन बत्ता की ओर से कमेटी के गठन के आदेश जारी किए गए हैं।

You might also like