सरस मेले में जुटे 21 राज्यों के स्वयं सहायता समूह

ऊना में ग्रामीण विकास एंव पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने किया मेले का शुभारंभ, पारंपरिक कलाओं को जिंदा रखने का किया आह्वान

ऊना –ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने सरस मेले का शुभारंभ किया। ऊना के पुराना बस स्टैंड पर 31 जनवरी तक चलने वाले इस मेले में हिस्सा लेने के लिए देश भर के 21 राज्यों के स्वयं सहायता समूह ऊना आए हैं। मेले में इन स्वयं सहायता समूहों के उत्पाद बिक्री के लिए रखे गए हैं। मेले के शुभारंभ अवसर पर ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने कहा कि हिमाचल प्रदेश सरकार ने पारंपरिक कलाओं व हस्तशिल्प को पुनर्जीवित करने का लक्ष्य रखा है। उन्होंने कहा कि आधुनिकता की दौड़ में हस्तशिल्प पीछे रह गया और इसे एक बार पुनः जीवन प्रदान करने के लिए हिमाचल प्रदेश सरकार ने मुख्यमंत्री ग्राम कौशल योजना आरंभ की है, ताकि ग्रामीण परिवेश के युवाओं का कौशल विकास करने के साथ-साथ उन्हें स्वरोजगार के अवसर प्राप्त हो सकें। आज हाथ से बनी पारंपरिक वस्तुओं की अच्छी मांग है। इसी लिए प्रदेश सरकार इस योजना को प्रचारित कर अधिक से अधिक युवाओं को पारंपरिक कलाओं में कुशल बनाने का प्रयास कर रही है। वीरेंद्र कंवर ने कहा कि ग्राम कौशल योजना के तहत सीखने व सिखाने वालों को प्रोत्साहन राशि प्रदान की जा रही है। जहां प्रशिक्षु को तीन हजार रुपए मिलेंगे। वहीं, प्रशिक्षण प्रदान करने वाले को 1500 रुपए की राशि प्रति माह प्रति प्रशिक्षु प्रदान की जाएगी। इस अवसर पर ग्रामीण विकास मंत्री ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में कुछ स्वयं सहायता समूह बेहतरीन कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कांगड़ा जिला के नमस्ते धर्मशाला तथा बिलासपुर जिला के कामधेनू स्वयं सहायता समूह का जिक्र करते हुए कहा कि यह अपने-अपने क्षेत्र में बढि़या काम कर रहे हैं और सभी को इनसे सीख लेकर आगे बढ़ना चाहिए। उन्होंने कहा कि समर्थ ऊना कार्यक्रम के तहत आज लमलैहड़ी में बांस उत्पादन तथा बांस के उत्पाद को तैयार करने के उद्देश्य से परियोजना चलाई जा रही है, जिसका सार्थक परिणाम सामने आ रहे हैं।

स्वयं सहायता समूहों को मिलेगा मंच

इससे पहले मुख्यातिथि का स्वागत करते हुए उपायुक्त ऊना संदीप कुमार ने कहा कि मेला स्थल पर लगभग 100 स्टाल लगाए गए हैं। इनमें विभिन्न उत्पाद प्रदर्शित किए गए हैं तथा ग्राहक इन्हें खरीद भी सकते हैं। उन्होंने कहा कि मेले का उद्देश्य स्वयं सहायता समूहों को अपने उत्पाद की बिक्री के लिए मंच प्रदान करना है। मेले में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत स्वयं सहायता समूहों के सदस्यों द्वारा निर्मित विशिष्ट हस्तशिल्प उत्पादों को बिक्री के उचित मंच मिलेगा।

कार्यक्रम ये-ये रहे उपस्थित

सरस मेले के शुभांरभ अवसर पर जिला भाजपा अध्यक्ष मनोहर लाल, भाजपा नेता यशपाल राणा, अतिरिक्त उपायुक्त अरिंदम चौधरी, एसडीएम ऊना डा. सुरेश जसवाल, पीओ डीआरडीए संजीव ठाकुर सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।

You might also like