साईं बाबा के जन्मस्थान पर बोल फंसे उद्धव ठाकरे, शिरडी में बंद रहा बाजार, विवाद सुलझाने को बुलाई मीटिंग

शिरडी  – महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना के चीफ उद्धव ठाकरे की ओर से साईं बाबा के जन्मस्थान को लेकर दिए गए बयान पर विवाद थमता नहीं दिख रहा है। रविवार को शिरडी के बाजार पूरी तरह बंद रहे और सड़कों पर वाहन तक नहीं दिखे। इस बीच शिरडी के शिवसेना सांसद सदाशिव लोखंडे ने भी बंद को अपना समर्थन दिया है। बता दें कि परभणी जिले के पथरी को साईं बाबा का जन्मस्थान बताते हुए सीएम उद्धव ठाकरे ने ‘साईं जन्मस्थान’ के विकास के लिए 100 करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा की थी। तब से ही 19वीं सदी के संत साईं बाबा के समर्थकों में गुस्सा देखा जा रहा है। साईं बाबा के अनुयायियों का कहना है कि सीएम उद्धव ठाकरे को अपना बयान वापस लेना चाहिए। इस बीच पूरे विवाद के चलते सीएम उद्धव ठाकरे बैकफुट पर दिख रहे हैं। सोमवार को इस विवाद पर चर्चा के लिए उन्होंने मुंबई में सचिवालय में मीटिंग बुलाई है। शिरडी साईं मंदिर ट्रंस्ट से जुड़े लोगों और अहमदनगर जिले के अधिकारियों ने बताया कि रविवार सुबह से ही बाजार बंद थे, लेकिन भक्तों को मंदिर परिसर के अंदर जाने और दर्शन करने करने की अनुमति थी।

शिवसेना MP बोले, साईं भक्त पहले, सांसद बाद में
यही नहीं मंदिर का किचन ‘प्रसादालय’ भी खुला हुआ था ताकि साईं भक्तों को किसी प्रकार की दिक्कत न हो। बंद के बावजूद मंदिर में श्रद्धालुओं की अच्छी खासी संख्या थी और प्रसादालय में भी लंबी कतारें देखने को मिलीं। शिरडी के बंद का समर्थन करते हुए शिवसेना के सांसद सदाशिव लोखंडे ने कहा, ‘मैं पहले साईं का भक्त हूं और बाद में सांसद हूं। मैं इस प्रदर्शन का समर्थन करता हूं। साईं बाबा उस वक्त शिरडी आए थे, जब वह 16 साल के थे। उन्होंने कभी अपने धर्म या जाति का खुलासा नहीं किया। इसलिए उन्हें इन सब चीजों में नहीं बांटना चाहिए। मैं इस मुद्दे पर सीएम उद्धव ठाकरे से बात करने जा रहा हूं।’

You might also like