स्किल्ड अटेंडेंट जांचें जच्चा-बच्चा

उपायुक्त विवेक भाटिया ने स्वास्थ्य विभाग को दिया आदेश

चंबा –उपायुक्त विवेक भाटिया ने कहा है कि यदि गर्भवती महिलाओं व बच्चों के सभी जरूरी टेस्ट और मेडिकल चेकअप नहीं हुए तो इस स्थिति में संबंधित क्षेत्र की आ वर्कर और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की भी जिम्मेदारी तय की जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि स्वास्थ्य विभाग भी ये सुनिश्चित करें कि घर पर होने वाली डिलीवरी के बाद जच्चा-बच्चा की स्किल्ड अटेंडेड द्वारा जांच होनी चाहिए। उन्होंने निर्देश दिए कि 29 जनवरी तक उन सभी आशा वर्करों का ब्यौरा प्रस्तुत किया जाए, जहां इसको लेकर अपेक्षा के अनुरूप संतोषजनक कार्य नहीं हुआ है। वह गुरुवार को एस्पिरेशनल जिला योजना की समीक्षा बैठक में बोल रहे थे। उन्होंने बैठक में मौजूद जिला के सभी एसडीएम को भी कहा कि वे अपने स्तर पर संबंधित खंड चिकित्सा अधिकारियों के साथ भी समीक्षा बैठकों का आयोजन करें। उपायुक्त ने जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग को भी हिदायत देते हुए कहा कि वे आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करके यह सुनिश्चित बनाएं कि उनके द्वारा होने वाला कार्य निष्पादन कितना महत्त्वपूर्ण है और उनकी भूमिका क्या है। बैठक के दौरान विवेक भाटिया ने कहा कि जिला में एसओएस के तहत होने वाली परीक्षाओं को बोर्ड परीक्षाओं के पैटर्न पर करवाया गया जाएगा। उन्होंने कहा कि न केवल परीक्षा केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरों की स्थापना की जाएगी, बल्कि फ्लाइंग स्क्वाड भी तैनात रहेंगे।  उपायुक्त ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के अलावा महिला एवं बाल विकास विभाग चंबा जिला मुख्यालय पर अस्पताल में उपलब्ध न्यूट्रीशनल रिहैबिलिटेशन सेंटर को लेकर आमजन के साथ जानकारी साझा करें। उन्होंने मातृ-शिशु बैठकों के नियमित आयोजन के भी निर्देश दिए।  बैठक के दौरान स्किल डेवलपमेंट, माइक्त्रो सिंचाई स्कीमों के विस्तार के अलावा प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना को लेकर जिला में किए जा रहे कार्यों की भी समीक्षा हुई। बैठक में अतिरिक्त उपायुक्त मुकेश रेपसवाल के अलावा जिला के विभिन्न उपमंडलों के एसडीएम और विभागीय अधिकारी भी मौजूद रहे।

 

You might also like