50 गांवों में 12 दिन से ब्लैकआउट

राजगढ़ के रासूमांदर क्षेत्र में बिजली सप्लाई न होने से लोग झेल रहे दिक्कतें,सरकारी डिपुओं से लोगों को नहीं मिल रहा राशन

अजय, फागू – राजगढ़ के रासूमांदर क्षेत्र के करीब 50 गांव में गत 12 दिनों से बिजली आपूर्ति न होने के कारण लोगों को सरकारी डिपुओं से मिलने वाले राशन से भी वंचित रहना पड़ रहा है। देवठी मझगांव के निवासी एवं राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित वरिष्ठ नागरिक  विद्यानंद सरैक ने बताया कि रासूमांदर क्षेत्र में गत छह जनवरी से पूर्णतयः ब्लैक आउट छाया है और इस क्षेत्र में संचार सुविधाएं ठप्प होने से लोगों का जनजीवन काफी प्रभावित हुआ है। विद्यानंद सरैक ने बताया कि बिजली न होने से इस क्षेत्र की सभी उचित मूल्य की दुकानों में सभी डिजिटल सेवाएं ठप होने से लोगों को खाद्यान्न भी नहीं मिल रहा है। बता दें कि सरकार द्वारा लोगों को डिजिटल राशन कार्ड जारी किए गए हैं और इन राशन कार्डों को स्वाइप करने के उपरांत ही राशन मिलता है, परंतु बिजली न होने के कारण स्वाइप मशीनें बंद पड़ी हैं, जिस कारण लोगों को बर्फ से प्रभावित सभी क्षेत्रों में सरकारी डिपुओं से राशन नहीं मिल रहा है। उन्होंने कहा कि करीब दो सप्ताह से बिजली आपूर्ति बाधित होने के कारण लोगों के सभी मोबाइल बंद होने से यह समूची घाटी अन्य क्षेत्रों से अलग-थलग पड़ गई है।  उन्होंने बताया कि ग्रामीण विद्युतीकरण योजना के तहत हर वर्ष करोड़ों की राशि कागजों में विद्युत की नई लाइनों को बिछाने और ट्रांसफार्मर को बदलने पर व्यय की जाती है, परंतु धरात्तल पर वही पुरानी व्यवस्था है जिसमें कोई सुधार नहीं आया है। यही नहीं विद्युत आपूर्ति नियमित न होने के बावजूद लोगों से भारी भरकम औसतन बिजली बिल लिए जाते हैं जोकि विशेषकर गरीब लोगों के साथ एक घोर अन्याय है। उधर, इस संबंध में एक्सईएन बिजली बोर्ड राजगढ़ नरेंद्र ठाकुर ने बताया कि बर्फबारी के कारण सूमचे डिवीजन में विद्युत लाइनों का करीब चार करोड़ का नुकसान हुआ है और विद्युत लाइनों की मरम्मत का कार्य युद्धस्तर पर किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि रासूमांदर क्षेत्र में एक-दो दिन में विद्युत आपूर्ति बहाल कर दी जाएगी।

You might also like