अपने रचित गीतों से लोगों को मंत्रमुग्ध किया इंदीवर ने

 

मुंबई, 26 फरवरी  बॉलीवुड में इंदीवर का नाम एक ऐसे गीतकार के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपने रचित गीतों से लोगों को तीन दशक तक मंत्रमुग्ध किया।  श्यामलाल बाबू राय उर्फ इंदीवर का जन्म उत्तर प्रदेश के झांसी में 1924 मे हुआ था। बचपन से ही वह गीतकार बनने का सपना देखा करते थे और अपने इसी सपने को पूरा करने के लिये वह मुंबई आ गये। बतौर गीतकार सबसे पहले 1946 में प्रदर्शित फिल्म..डबल क्रास..में उन्हें काम करने का मौका मिला लेकिन फिल्म की असफलता से वह कुछ खास पहचान नही बना पाये। अपने वजूद को तलाशते इंदीवर को गीतकार के रूप में पहचान बनाने के लिये लगभग पांच वर्ष तक फिल्म इंडस्ट्री में संघर्ष करना पड़ा। इस दौरान उन्होंने कई बी और सी ग्रेड की फिल्में भी की।  वर्ष 1951 में प्रदर्शित फिल्म ..मल्हार ..की कामयाबी से वह गीतकार के रूप में कुछ हद तक वह अपनी पहचान बनाने मे सफल हो गये। इस फिल्म का गीत बड़े अरमानों से रखा है बलम तेरी कसम ..श्रोताओं के बीच आज भी लोकप्रिय है। वर्ष 1963 मे बाबूभाई मिस्त्री की संगीतमय फिल्म..पारसमणि.. की सफलता के बाद इंदीवर शोहरत की बुंलदियों पर जा पहुंचे। इंदीवर की जोड़ी निर्माता-निर्देशक मनोज कुमार के साथ बहुत जमी ।मनोज कुमार ने सबसे पहले उनसे फिल्म उपकार के लिये गीत लिखने की पेशकश की। कल्याणजी आनंद जी के संगीत निर्देशन में उपकार के लिये इंदीवर ने ..कस्मेवादे प्यार वफा ..जैसे दिल को छू लेने वाले गीत लिखकर श्रोताओं को भावविभोर कर दिया। इसके अलावा मनोज कुमार की फिल्म पूरब और पश्चिम के लिये भी उन्होंने ने दुल्हन चली वो पहन चली और कोई जब तुम्हारा हृदय तोड़ दे जैसे सदाबहार गीत लिखकर अलग ही समां बांधा। वर्ष 1970 मे विजय आनंद निर्देशित फिल्म ..जानी मेरा नाम ..में नफरत करने वालों के सीने में प्यार भर दूं.पल भर के लिये कोई मुझे प्यार कर ले जैसे रूमानी गीत लिखकर इंदीवर ने श्रोताओं का दिल जीत लिया।  मनमोहन देसाई के निर्देशन मे फिल्म सच्चा-झूठा के लिये इंदीवर का लिखा एक गीत ..मेरी प्यारी बहनिया बनेगी दुल्हनिया …को आज भी शादी के मौके पर सुना जा सकता है । इसके अलावा फिल्म राजेश खन्ना अभिनीत फिल्म ..सफर ..के लिये उन्होंने जीवन से भरी तेरी आंखे और जो तुमको हो पसंद जैसे गीत लिखकर श्रोताओं को भाव विभोर कर दिया। जाने-माने फिल्मकार राकेश रोशन की फिल्मों के लिये इंदीवर ने सदाबहार गीत लिखकर उनकी फिल्मो को सफल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी। उनके सदाबहार गीतों के कारण ही राकेश रोशन की ज्यादातार फिल्मे आज भी याद की जाती है। इन फिल्मों में खासकर कामचोर.खुदगर्ज.खून भरी मांग.कालाबाजार .किशन कन्हैया.किंग अंकल.करण अर्जुन.कोयला जैसी फिलमें शामिल है। राकेश रौशन के अलावा इंदीवर के पसंदीदा निर्मात-निर्देशकों में मनोज कुमार .फीरोज खान. आदि प्रमुख रहे है। इंदीवर के पसंदीदा संगीतकार के तौर पर कल्याण जी आनंद जी का नाम सबसे उपर आता है। कल्याणजी.आनंदजी के संगीत निर्देशन मे उनके के गीतो को नई पहचान मिली। शायद कल्याणजी..आनंद जी इंदीवर के दिल के काफी करीब थे। सबसे पहले इस जोड़ी का गीत संगीत 1965 में प्रदर्शित फिल्म हिमालय की गोद में पसंद किया गया। इसके बाद इंदीवर द्वारा रचित फिल्मी गीतों में कल्याणजी-आनंदजी का ही संगीत हुआ करता था। ऐसी फिल्मों में उपकार.दिल ने पुकारा,सरस्वती चंद्र,यादगार,सफर,सच्चा झूठा,पूरब और पश्चिम,जॉनी मेरा नाम,पारस,उपासना,कसौटी,धर्मात्मा,  हेराफेरी,डॉन,कुर्बानी,कलाकार आदि शामिल हैं। वर्ष 1975 में प्रदर्शित फिल्म अमानुष के लिये इंदीवर को सर्वश्रेष्ठ गीतकार का फिल्म फेयर पुरस्कार दिया गया। इंदीवर ने अपने सिने कैरियर मे लगभग 300 फिल्मों के लिये गीत लिखे। लगभग तीन दशक तक अपने रचित गीतों से श्रोताओं को भावविभोर करने वाले इंदीवर 27 फरवरी 1997 को इस दुनिया को अलविदा कह गये

 

You might also like