केरल की संस्कृति जानेंगे घुमारवीं के छात्र

एक भारत श्रेष्ठ भारत के तहत होगा रीति-रिवाजों का आदान-प्रदान, कल मलयालम मूवी देखेंगे बच्चे

घुमारवीं – स्वामी विवेकानंद राजकीय डिग्री कालेज घुमारवीं के स्टूडेंट्स अब केरल की संस्कृति, भाषा व रीति-रिवाज जानेंगे। एक भारत श्रेष्ठ भारत के तहत घुमारवीं कालेज को केरल के दो निजी महाविद्यालयों से जोड़ा गया है। इनमें केरल के महात्मा गांधी कालेज केशवापुरम  तिरुवनतुरम व टीकेएम कालेज ऑफ आर्ट्स एंड सांइस कोलम। घुमारवीं कालेज के छात्र इन महाविद्यालयों के स्टूडेंट्स के साथ संस्कृति तथा रीति-रिवाज को अदान-प्रदान करेंगे। इसके लिए घुमारवीं कालेज प्रबंधन केरल के महाविद्यालयों के प्रबंधन के साथ संपर्क में है, जिसके तहत यूथ एक्सचेंज के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। संस्कृति, रीति-रिवाजों व भाषा को जानने के लिए घुमारवीं कालेज के छात्र केरल तथा केरल के विद्यार्थी घुमारवीं आएंगे। इस दौरान आयोजित होने वाले कार्यक्रमों में स्टूडेंट्स अपने मेलों, संस्कृति, रीति-रिवाजों व भाषा से एक-दूसरे को परिचित करवाएंगे। इससे घुमारवीं कालेज के बच्चे मलयालम तथा वहां के स्टूडेंट हिंदी भाषा, एक-दूसरे राज्यों की प्रसिद्ध संस्कृति तथा भाषा से भली-भांति परिचित हो सके। इसके तहत स्वामी विवेकानंद कालेज घुमारवीं को केरल के दो निजी महाविद्यालयों के साथ जोड़ा गया है, जिसमें संस्कृति व रीति-रिवाज का अदान-प्रदान किया जाएगा। घुमारवीं कालेज में एक भारत श्रेष्ठ भारत के तहत क्लब का गठन कर लिया है। इसके तहत कार्यक्रमों को अमलीजामा पहनाने के लिए योजनाओं की रूपरेखा तैयार कर ली है। एक भारत, श्रेष्ठ भारत के तहत घुमारवीं कालेज में स्टूडेंट्स को शनिवार को मलयालम भाषा की मूवी दिखाई जाएगी। 29 फरवरी को एक भारत, श्रेष्ठ भारत दिवस मनाया जाएगा। इसमें बच्चों को मलयालम भाषा की जानकारी देने के अलावा अन्य गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा। इस दौरान इससे संबंधित कविताएं, भाषण व अन्य प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा। कालेज में होने वाले यूथ एक्सचेंज सहित अन्य कार्यक्रमों के लिए  अतिथि देवो भव विषय पर एक लघु नाटिका प्रस्तुत की, जिसमें बिलासपुर  बोली और बिलासपुर के प्रसिद्ध व्यंजन तथा संस्कृति के बारे में अवगत करवाया।

You might also like