जन्म-मृत्यु प्रमाणमत्र के 600 रुपए!

कुल्लू – कुल्लू में जन्म और मृत्यु संबंधी रिकार्ड लेने के लिए लोगों से 600 रुपए वसूले जा रहे हैं। वहीं, लोगों को बार-बार जन्म और मृत्यु प्रमाणपत्र के लिए धक्के खाने पड़ रहे हैं। ऐसा इसलिए, क्योंकि कुल्लू अस्पताल में इस तरह का पुराना रिकार्ड उर्दू में है और लोगों को यह रिकार्ड हिंदी या अंग्रेजी में चाहिए। ऐसे में अस्पताल प्रशासन ने एक उर्दू ट्रांसलेटर रखा है, जो एक प्रमाणपत्र को ट्रांसलेट करने के 600 रुपए लेता है। इसको लेकर जिला कुल्लू के बंजार उपमंडल की दुर्गम पंचायत शिल्ही के उपप्रधान ने दो बार 1100 नंबर पर की, लेकिन इस पर सरकार ने कोई संज्ञान नहीं लिया है। पहली शिकायत 12 दिसंबर, 2019 को की थी। वहीं, दूसरी शिकायत हाल ही में 20 फरवरी को की गई है। अब उन्होंने तीसरी बार इसी नंबर पर शिकायत करने का मन बनाया है। गौर हो कि प्रदेश में मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन नंबर का मतलब था कि लोगों को किसी भी तरह की शिकायत के लिए अब सरकारी दफ्तरों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे और वह घर बैठे 1100 नंबर डायल कर सरकार से शिकायत कर समस्या का समाधान कर सकेंगे, लेकिन बार-बार शिकायत करने के बाद भी समस्या का हल नहीं हो पा रहा है और लोग दफ्तरों में धक्के खाने को विवश हैं।  शिल्ही पंचायत के उपप्रधान मोहर सिंह ठाकुर का कहना है कि क्षेत्रीय अस्पताल कुल्लू में पूरे जिला के बुजुर्गों का जन्म तथा मृत्यु संबंधी रिकार्ड उर्दू में है। ऐसे में कई बुजुर्ग अपना या अपने पूर्वजों का जन्म प्रमाण लेने के लिए आवेदन करते हैं, तो इस समस्या के समाधान के लिए अस्पताल प्रबंधन द्वारा उर्दू अनुवादक रखा गया है, जो प्रत्येक प्रमाणपत्र के लिए 600 रुपए वसूलता है। एफेडेविट तथा नोटरी फीस अलग से। हालांकि हर कोई व्यक्ति जन्म प्रमाण पत्र के लिए 600 अदा नहीं कर सकता। इस समस्या के समाधान हेतु उपप्रधान ने 1100 पर शिकायत दर्ज करवाई थी, जिसका समाधान नहीं हुआ है। ऐसे में क्षेत्र के लोगों ने मांग की है कि सरकार और स्वास्थ्य विभाग को यह पूरा रिकार्ड हिंदी और अंग्रेजी में ट्रांसलेट करना चाहिए।

You might also like