दो मार्च को पंचकूला में गरजेगी सीटू

केंद्र सरकार के श्रम कानूनों को चार कोड में बदलने के चलते करेगी प्रदर्शन

पंचकूला – सीटू पंचकूला की जिला स्तरीय मंगलवार को सेक्टर-पांच यवनिका पार्क में जिला अध्यक्ष रमा की अध्यक्षयता में बैठक संपन हुई। मंच संचालन जिला सचिव लच्छीराम ने किया ने किया। आम सभा को संबोधित करते हुए सीटू के उपाध्यक्ष आनंद शर्मा ने कहा कि आज पूरी दुनिया मे पूंजीवाद संकट के दौर से गुजर रहा है। पूंजीवाद अपने मुनाफे सुनिश्चित करने के लिए सामाजिक सुरक्षा में कटौतियां, श्रम कानूनों को खत्म कर रहा है। इसके खिलाफ  दुनिया के स्तर पर आंदोलन तीव्र हो रहे हैं। इस मौके पर दुनिया के स्तर पर पूंजीवादी सरकारों का विभाजनकारी एजेंडा सामने आ रहा है। मोदी सरकार ट्रेड यूनियन अधिकारों को खत्म करने के लिए तमाम श्रम कानूनों को चार कोड के रूप में बदल रही है। हड़ताल करने, यूनियन बनाने के अधिकार को खत्म किया जा रहा है। मोदी सरकार एलआईसी, बैंक, रेलवे समेत देश के तमाम संसाधनों को बेचने जा रही है। जनता का रोजी-रोटी के सवालों से ध्यान भटकाने के लिए हिंदू-मुस्लिम, राममंदिर, धारा 370, एनपीआर, एनआरसी, सीएए जैसा विभाजनकारी एजेंडा लागू करके नफरत का माहौल पैदा किया जा रहा है। आज सार्वजनिक वितरण प्रणाली को खत्म किया जा रहा है। रोजगार को खत्म किया जा रहा है। कृषि सामग्री, खाद-दवाई महंगी, मनरेगा, शिक्षा व स्वास्थ्य का बजट में कटौती की जा रही है। मंहगाई आज सातवें आसमान पर है। संगठित क्षेत्र में भारी मंदी है। कारख़ाने बद किऐ जा रहे हैं। मजदूरों की छंटनी बड़े पैमाने पर है। जीवन बीमा समेत सार्वजनिक क्षेत्र का निजीकरण और केंद्र सरकार का वर्तमान बजट अर्थव्यवस्था में किसी तरह की मांग पैदा नहीं कर रहा है। सार्वजनिक निवेश के अभाव में मंदी दूर नहीं होगी तथा रोजगार को बढ़ावा नहीं मिलेगा।  केंद्र सरकार ने जो बजट पेश किया गया है वह जनविरोधी बजट है, जिसमें सभी सार्वजनिक क्षेत्र को अपने चेहतों को दिया जा रहा है।  दो मार्च पंचकूला जिले के निर्माण मजदूर अपनी मांगों में समस्याओं को लेकर पंचकूला में  पड़ाव होगा व  वह रेडी पटरी के साथी भी इसमें शामिल होंगे।

You might also like