पंजाब में अध्यापकों से न लिया जाए डाक का काम

चंडीगढ़  – पंजाब में शिक्षा प्रणाली को वैश्विक स्तर के बनाने का प्रण दोहराते हुए पंजाब के शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिंगला ने हिदायत की है कि अध्यापकों से डाक का काम न करवाया जाए बल्कि यह काम क्लर्कों या नॉन टीचिंग स्टाफ से लिया जाए। यहां जारी बयान में सिंगला ने बताया कि सरकार के ध्यान में आया है कि कई स्कूलों में क्लर्क होने के बावजूद डाक का काम कंप्यूटर अध्यापकों या अन्य अध्यापकों से करवाया जा रहा है। इस संबंध में पहले भी स्कूल मुखियों को हिदायत की गई थी कि जहाँ तक संभव हो सके डाक का सारा काम स्कूलों में तैनात क्लर्कों से ही लिया जाये। अगर किसी स्कूल में क्लर्क नहीं है तो यह काम नॉन टीचिंग स्टाफ  से करवाया जा सकता है परंतु अध्यापकों को डाक का काम किसी भी सूरत में न दिया जाए। श्री सिंगला ने स्कूल मुखियों को यह भी हिदायत की है कि डाक का काम नॉन .टीचिंग स्टाफ से लेने के लिए स्कूल स्तर पर प्रबंध किया जाये। अध्यापकों को सिर्फ़ बच्चों की पढ़ाई की तरफ ध्यान देने और मिशन शत प्रतिशत के लिए प्रेरित किया जाए।इसी तरह मिड -डे मील सम्बन्धी डाटा उसी दिन एप पर डालना जरूरी करने सम्बन्धी हिदायत करते हुए शिक्षा मंत्री ने कहा कि राज्य के समूह स्कूलों में हर रोज़ बनाऐ जाने वाले मिड-डे मील संबंधी डाटा रोज़मर्रा की मोबाइल एप पर फीड करना यकीनी बनाया जाये। उन्होंने कहा कि कुछ स्कूल मिड- डे मील संबंधी एसएमएस डाटा अगले दिन एप पर अपलोड किया जाता है जिससे खाना खाने वाले विद्यार्थियों की उस दिन की संख्या का पता लगाना मुश्किल हो जाता है और यह डाटा केंद्रीय मानवीय संसाधन विकास मंत्रालय के पोर्टल पर अपलोड करने में देर होती है।

You might also like