पहले दिन बातचीत बेनतीजा आज फिर जाएंगे वार्ताकार 

शाहीन बाग प्रदर्शन मामला

नई दिल्लीनागरिकता संसोधन कानून (सीएए) के खिलाफ  शाहीन बाग में चल रहे धरने को खत्म कर प्रदर्शनकारियों को वहां से हटाने के लिए सुप्रीम कोर्ट की तरफ से नियुक्त वार्ताकार वकील संजय हेगड़े, साधना रामंद्रन और वजाहत हबीबुल्लाह बुधवार को शाहीन बाग पहुंचे। हालांकि इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने मीडिया के सामने बातचीत करने से इनकार कर दिया। इसके बाद वार्ताकारों ने मीडिया से अलग होकर प्रदर्शनकारियों से बातचीत की। करीब एक घंटे के बाद वार्ताकार मीडिया के सामने आए। साधना रामंद्रन ने कहा कि बुधवार को बातचीत का पहला दिन था। हमारी बात सभी ने ध्यान से सुनी। सब चाहते हैं कि हम गुरुवार को फिर आएं। बता दें कि ये वार्ताकार शाहीन बाग के प्रतिनिधियों से बातचीत करने और मसले को सुलझाकर धरने को खत्म करवा रास्ता खुलवाने का प्रयास कर रहे हैं। सबसे पहले वार्ताकारों ने प्रदर्शनकारियों को सुप्रीम कोर्ट का फैसला समझाया। उन्होंने बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि आपका आंदोलन करने का हक बरकरार रहना चाहिए। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होती रहेगी। आप जो भी बात कहेंगे, हम वह आपकी तरफ से सुप्रीम कोर्ट से कहेंगे, लेकिन हम सबकी तरह अन्य लोगों को भी अधिकार है। उनकी भी रक्षा करनी होगी। क्या आप चाहते हैं कि आपके आंदोलन से दूसरों को परेशानी हो। हम आपकी अच्छी-बुरी बात सुनने को तैयार हैं। इससे पहले जब वार्ताकारों ने प्रदर्शनकारियों से पूछा कि रास्ता कैसे खुलेगा, तो प्रदर्शनकारियों ने कहा कि जब तक नागरिकता संशोधन अधिनियम वापस नहीं लिया जाता है, तब तक हम एक इंच भी पीछ नहीं हटेंगे। फिर चाहे कोई हम पर फायरिंग ही क्यों न करे। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि हम पर देशद्रोही होने का आरोप लगाया जा रहा है। कुछ लोग हमको गोली मारना चाहते हैं।

You might also like