बयान से मुकरना पड़ा महंगा दिन भर खड़े रहने की सजा

पंचकूला – रोहतक अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश कोर्ट ने हत्या प्रयास मामले में गवाहों के बयान से मुकरने पर मां-बेटे समेत अन्य तीन लोगों को कोर्ट में दिन भर खड़े रहने की सजा सुनाई गई। आपको बता दें कि मामला मदीना गांव का है। जहां पर  दिसंबर 2017 में  गांव में रहने वाली संतरा ने महम थाने में दी शिकायत में बताया कि वह अपने मकान के गेट पर खड़ी थी। उसका लड़का चांदवीर घर के सामने गली में खड़ा था। उसी समय गांव का ही कुलदीप बाइक पर आया और चांदवीर के साथ गाली गलौज की और फिर कुलदीप वापस चला गया। लेकिन वह थोड़ी देर बाद कुलदीप वापस आया और गोली चला दी, जो कि संतरो के पैर में लग गई। एक गोली वहां से गुजर रहे जगदीप मास्टर के पेट में जा लगी। इसके बाद आरोपित पिस्तौल लहराते हुए वहां से फरार हो गया। पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपित कुलदीप को गिरफ्तार कर लिया। हालांकि कोर्ट में सुनवाई के दौरान संतरो, उसके बेटे चांदवीर और जगदीप बयानों से मुकर गए थे, लेकिन गवाहों के बयान से मुकरने के बावजूद कोर्ट ने आरोपित को दोषी करार देते हुए कुछ दिन पहले ही सजा सुना दी थी।

You might also like