बल्ह नहीं, सीएम के सराज में तैनात होगी एनडीआरएफ

शिमला – नेशनल डिजास्टर रिस्पांस फोर्स (एनडीआरएफ) की बटालियन मंडी जिला के बल्ह में नहीं, बल्कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के गृह क्षेत्र सराज में तैनात होगी। सूत्र बताते हैं कि पहले बल्ह में जमीन देखी गई थी, लेकिन सरकार वहां पर जमीन नहीं दे सकती, लिहाजा अब सिराज में जमीन ढूंढ ली गई है। सरकार इस बटालियन को सराज में स्थापित करने के लिए जमीन भी मुफ्त में देगी, जिसके लिए राजस्व विभाग ने प्रस्ताव मांगा है। एनडीआरएफ की ओर से प्रस्ताव मिलने के बाद ही सरकार उसे जमीन दे सकेगी, जिससे पहले मुफ्त में जमीन का मामला सिरे नहीं चढ़ सकता। बता दें कि एनडीआरएफ की बटालियन में एक हजार से ज्यादा जवान होते हैं। ऐसी एक बटालियन बठिंडा में है, जहां से सभी क्षेत्रों को जरूरत पड़ने पर रिस्पांस फोर्स के जवान भेजे जाते हैं। हिमाचल में भी जब जरूरत हो तो आपदा के समय वहीं से जवान आते हैं। यदि हिमाचल में एनडीआरएफ की बटालियन को स्थापित किया जाए तो आपदा के समय में राहत कार्यों में देरी नहीं होगी और समय पर यह फोर्स एक्शन में आएगी। चूंकि यहां पर बरसात और बर्फबारी के दौरान कोई न कोई आपदा हर साल पेश आती है, ऐसे में रिस्पांस फोर्स की जरूरत बहुत ज्यादा है। यही वजह है कि सरकार जल्द यहां पर एनडीआरएफ बटालियन चाहती है। इसके लिए लगभग 900 बीघा जमीन दी जाएगी, जोकि ढूंढ ली गई है। बता दें कि सराज में बटालियन स्थापित होने के साथ रामपुर, धर्मशाला व मंडी में एक-एक कंपनी तैनात की जाएगी। इनको जमीन को लेकर मामला सीएम को भेजा गया है। यहां पर प्रदेश सरकार अपनी भी एक डिजास्टर रिस्पांस फोर्स का गठन कर रहा है, जिसमें 359 लोगों को लगाया जाएगा। इनकी भर्ती पुलिस विभाग द्वारा की जाएगी, जिसके लिए मामला सरकार को गया हुआ है। इसकी भी प्रदेश में तीन कंपनियों को तैनात किया जाएगा, जो हिमाचल के लिए मददगार साबित होंगी। बता दें कि भूकंप की दृष्टि से भी हिमाचल प्रदेश के कई इलाके संवेदनशील हैं। कई क्षेत्र अति संवेदनशील भी हैं। इसके अलावा  बरसात व बर्फबारी में यहां पर बड़ी आपदाओं की संभावना रहती है। बहरहाल एनडीआरएफ की बटालियन के लिए सराज में जमीन देने के लिए उनके प्रस्ताव का इंतजार किया जा रहा है। राजस्व विभाग इसे कैबिनेट को भेजेगा।

 

You might also like