बिजली महादेव में निकाली ईको पदयात्रा

यंग दु्रकपा एसोसिएशन गड़सा ने किया आयोजन, 300 से ज्यादा प्रतिभागियों ने लिया हिस्सा

कुल्लू –यंग दु्रकपा एसोसिएशन गड़सा ने जिला कुल्लू के बिजली महादेव में ईको पदयात्रा की शुरुआत की, जिसमें  देचेन  छोकर  गोंपा  शाड़ाबाई  के बौद्ध धर्म गुरु सोमंग रिंपोछे और उनके साथ लामागण व विभिन्न जगह से आए श्रद्धालु व वालंटियर्स इस ईको पदयात्रा में शामिल हुए। पदयात्रा की शुरुआत प्रातः सात बजे कुल्लू के ढालपुर से शुरू हुई और इसकी विधिवत शुरुआत रिंपोछे व लामागणों द्वारा बिजली महादेव प्रांगण में पूजा-अर्चना से की गई, जिसमें जगह-जगह से आए श्रद्धालुओं ने हिस्सा लिया। इस पदयात्रा में जहां जनजातीय जिला लाहुल-स्पीति, किन्नौर, पांगी के श्रद्धालुओं ने भाग लिया, वहीं दिल्ली से आए नारोपा फेलो संजीवन राय व सोलो ट्रैवलर पल्लवी झारखंड ने भी हिस्सा लिया। मंदिर प्रांगण में पूजा अर्चना के बाद रिंपोछे सोमंग ने समस्त श्रद्धालुओं को प्रकृति संरक्षण का संदेश दिया व सभी से अपील की कि हिमालय की इन बेहद खूबसूरत वादियों को साफ-सुथरा रखने में अपनी-अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें।  पूजा पाठ के बाद सभी श्रद्धालुओं के लिए भोजन का भी प्रबंध एसोसिएशन द्वारा रखा गया। इसके बाद बिजली महादेव परिसर व इसके आसपास एक विशाल सफाई अभियान चलाया गया, जिसमें लगभग 300 वालंटियर ने हिस्सा लिया व ढेरों कूड़ा-कर्कट इकट्ठा कर कुल्लू लाया गया। वाईडी के प्रेस सचिव कुंगा ने बताया कि यह यंग दु्रकपा एसोसिएशन गड़सा की छठी ईको पदयात्रा है और लोगों ने इसमें बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। वहीं, यंग द्रुकपा एसोसिएशन गड़सा के ज्वाइंट सेक्रेटरी तेंजिन ने बताया कि इस ईको पदयात्रा को सफल बनाने में जिला प्रशासन कुल्लू एसडीएम, बीडीओ, नेहरू युवा केंद्र व अन्य संस्थाओं का बहुत सहयोग रहा और एक दिवसीय ईको पदयात्रा को सफल बनाने में मददगार साबित हुआ। प्रेस सचिव कुंगा ने बताया कि वाईडीए गड़सा इससे पूर्व भी लाहुल-स्पीति व अन्य धार्मिक स्थलों पर इस तरह की पदयात्रा व सफाई अभियान चला चुके हैं, जो बेहद कामयाब रहा। उन्होंने बताया कि लाहुल-स्पीति में जून माह में दूसरा ईको फेस्टिवल करवाया जाएगा, जिसमें देश-विदेश से आए सैकड़ों लोग हिस्सा लेंगे। इस पदयात्रा में 350 से अधिक श्रद्धालुओं ने हिस्सा लिया।

You might also like