बेल वाली सब्जियों की पौध तैयार

सोलन – डा. यशवंत सिंह परमार औद्योनिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय के क्षेत्रीय बागबानी अनुसंधान एवं प्रशिक्षण केंद्र जाछ में बेल वाली सब्जियों की अगेती खेती के लिए पौध तैयार हो गई है। केंद्र के सह निदेशक डा. अतुल गुप्ता ने बताया कि बेल वाली सब्जियों की अगेती खेती के लिए केंद्र पर घीया, लोकी, खीराए करेला व तोरी की पॉली ट्यूब में तैयार पौध किसानों के लिए 10 रुपए प्रति पौधे के हिसाब से बेचने के लिए तैयार हो गई हैं और कोई भी किसान इन सब्जियों के उत्तम किस्म के पौधे हमारे केंद्र से प्राप्त कर सकता है। उन्होंने बताया कि इसके अतिरिक्त दूसरी सब्जियों जैसे टमाटर, शिमला मिर्च, बैंगन तथा गेंदे के फूलों की पौध भी केंद्र पर बेचने के लिए तैयार हो चुकी हैं।  सब्जी विभाग के वैज्ञानिक डा. धर्मिंदर कुमार ने बताया कि जनवरी के महीने में इन सब्जियों की नर्सरी तैयार करने के लिए बीजों को पॉलीथीन की थैलियों में बोया जाता है। बेलवाली सब्जियों के बीजों की थैलियों में बुआई करने से पूर्व इनका अंकुरण कराना आवश्यक है, क्योंकि जनवरी के महीने में अधिक ठंड के कारण बीजों का जमाव देर से होता है। पौधों को निम्न ताप से बचाने के लिए पॉली टनल में रखा जाता है, ताकि पौधों का विकास सुचारू रूप से हो सके। जनवरी के अंतिम सप्ताह में बोई गई नर्सरी फरवरी के अंतिम सप्ताह में तैयार हो जाती है तथा किसान अगेती फसल तैयार करके अच्छी आमदनी प्राप्त कर सकते हैं।

You might also like