रोडवेज के निजीकरण से बाज आए खट्टर सरकार

हिसार  – दिल्ली विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की हार से सबक लेने की नसीहत देते हुए हरियाणा रोडवेज संयुक्त कर्मचारी संघ के राज्य प्रधान दलबीर किरमारा ने कहा कि मनोहर लाल खट्टर सरकार को रोडवेज का निजीकरण करने से बाज आना चाहिए। श्री किरमारा ने यहां जारी बयान में कहा कि दिल्ली के परिणाम न केवल केंद्र सरकार अपितु हरियाणा की भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार के लिए भी एक सबक हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली में जनता ने इन चुनावों से राजनीतिक दलों को यह साफ संदेश दे दिया है कि उनके लिए बिजली, पानी, स्वास्थ्य, शिक्षा जैसी मूलभूत सुविधाएं सबसे बड़ा मुद्दा है और जो दल जनता के इन मुद्दों को आगे रखकर राजनीति करेगा, जनता चुनाव में उसी का साथ देगी। प्रदेश की भाजपा-जजपा सरकार को विधानसभा चुनाव  परिणामों से सबक लेना चाहिए और रोडवेज सहित अन्य विभागों के निजीकरण की नीतियों को बंद करना चाहिए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार किलोमीटर स्कीम के तहत व अन्य स्कीम लाकर रोडवेज का निजीकरण करना चाहती है। इसी के तहत सरकार ने अब 510 निजी बसें चलाने का निर्णय लिया है जो पूरी तरह से गलत है और जनता के हितों के खिलाफ है।

You might also like