विरोध के बाद भी प्रस्ताव पास

नगर काउंसिल की मीटिंग में 20 प्रस्तावों को मंजूरी, विरोध में पार्षदों भी मिल गई मंजूरी

नंगल – नंगल नगर काउंसिल के विकास को लेकर नंगल में गुरुवार को एक बैठक चेयरमैन अशोक पुरी के नेतृत्व में संपन्न हुई। बैठक में परित्त सभी 20 प्रस्ताव सत्ता पक्ष के बहुमत के आधार पर पास हो गए।  विरोधी अकाली-भाजपा गठबंधन के पार्षदों ने कर्मचारी हित्तों के लिए पेश किए प्रस्तावों का तो समर्थन किया, लेकिन कुछ प्रस्तावों का जोरदार ढंग से विरोध करते हुए सत्ता पक्ष पर जनता से विभिन्न टैक्सों के माध्यम से जमा किए पैसों का दुरूपयोग करने का आरोप लगाया।

नगर काउंसिल में जनता के पैसों की मची है लूट

नंगल नगर काउंसिल के पूर्व चेयरमैन राजेश, पार्षद डा. रजिंद्र, एविक्त्रात परमार, हरीश, बलजीत व आरती मट्टू ने नंगल नगर काउंसिल के सत्ता पक्ष पर जनता के पैसों का दुरूपयोग करने का आरोप लगाते हुए कहा कि वर्ष नव वर्ष 2020 के आगमण पर बधाई संदेश देने के लिए नंगल नगर द्वारा 1.40 लाख रुपए के कार्ड छपावाने का बिल इस बैठक में पेश किया गया, जिसका हमने विरोध किया। पहले से ही मौजूद ट्रेक्टरों को कंडम बता कर नए ट्रेक्टर खरीदने, डिप्टी डायरेक्टर कार्यलय के लिए 2.10 लाख रुपए की लागत से फर्नीचर खरीद कर देने व लोकल बॉडी विभाग के विजीलेंस अधिकारी के लिए प्रति वर्ष 1.66 लाख रुपए की लागत से कार चालक मुहैया करवाने के प्रस्ताव सहित नंगल नगर में ठेकेदारी प्रथा के तहत काम करने वाले कर्मियों का वर्ष 2006 से आज तक का वकाया ईपीएफ  फंड खुद नगर काउंसिल द्वारा जमा करवाने का जोरदार विरोध किया गया। सत्ता पक्ष ने नंगल नगर काउंसिल में काम करने वाली सुरेवाल सोसायटी को ब्लैक लिस्ट करने का भी विरोध करते हुए कहा कि जो सोसायटी ईमानदारी से काम करती है उसे तो ब्लैक लिस्ट घोषित किया जा रहा है।

 डिप्टी डायरेक्टर के आदेश पर भी दर्ज नहीं हुआ विरोध

नंगल नगर काउंसिल को डिप्टी डायरेक्टर का पत्र आया, जिसमें साफ  आदेश जारी किए गए कि उनके विरोध दर्ज किए जाएं, लेकिन बावजूद उनके सभी विरोध दर्ज नहीं किए। उन्होंने भी नंगल नगर काउंसिल की मौजूदा सत्ता पक्ष को अब तक की जबसे भ्रष्ट बताते हुए कहा कि सबसे ज्यादा पैसों का दुरुपयोग इसी के दौरान हुआ। उन्होंने डिप्टी डायरेक्टर के कार्यालय को फर्नीचर व विजीलेंस विभाग को नगर काउंसिल के खर्च पर चालक मुहैया करवाने का भी जोरदार ढंग से विरोध किया।

विपक्ष से हजम नहीं हो रहा शहर का विकास

विरोधी पक्ष द्वारा लगाए गए आरोपों का जबाव देने के लिए सत्ता पक्ष की ओर से एडवोकेट परमजीत सिंह पम्मा ने मोर्चा संभालते हुए विरोधी पक्ष के आरोपों को निराधार बताया और कहा कि सत्ता पक्ष पर आरोप लगाने वाली महिला पार्षद शिवानी के वार्ड में ही बीते पांच वर्षों में पांच लाख रुपए से भी अधिक का विकास हुआ, जिसमें मेन मार्केट बाजार में पेवर लगाने, हाईमास्ट लाइट लगाने के अलावा अन्य काम भी शामिल है। राजेश द्वारा नव वर्ष की बधाई देने हेतु कार्ड बनाने, डिप्टी डायरेक्टर के कार्यलय के लिए फर्नीचर व विजीलेंस विभाग को चालक मुहैया करवाने की बात है, तो सरकारी आदेशों का पालन उन्हें करना ही पड़ता है और यह सभी काम सरकारी आदेशों के तहत ही हुए हैं। शहर के 19 वार्ड है और काफी बड़ा क्षेत्र होने के कारण टै्रक्टरों की जरूरत बढ़ गई है। इसलिए नए टै्रक्टर खरीदने का प्रस्ताव पेश किया गया था। उन्होंने कहा कि जिस सोसायटी की शिकायत आई थी और जांच में वह शिकायत ठीक होने पर उसे ब्लैक लिस्ट करने का प्रस्ताव पारित्त किया गया था।

You might also like