12 फुट बर्फ पर पैदल चलकर चूड़धार पहुंचे 200 श्रद्धालु

11965 फुट की ऊंचाई पर स्थित शिव धाम में नवाया शीश; नौहराधार, हरिपुरधार में ताजा बर्फबारी, 12 घंटे बंद रही बिजली

नौहराधार –सिरमौर जिला के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में  गुरुवार रात करीब आठ बजे के बाद आसमानी बिजली कड़कने व जोरदार बारिश के बाद शुक्रवार सुबह चार बजे के बाद नौहराधार, हरिपुरधार व चूड़धार में बर्फबारी हुई। मौसम विभाग की सटीक भविष्यवाणी के चलते किसी को विश्वास नहीं था कि फरवरी माह के अंत में बर्फबारी होगी, क्योंकि गुरुवार दिन तक क्षेत्र का अधिकतम तापमान 17 से 18 डिग्री था, जबकि न्यूनतम तापमान आठ डिग्री था, मगर शुक्रवार को तापमान माइनस में आने व बर्फबारी के चलते एक बार फिर से क्षेत्र ठंड की चपेट में आ गया है। खबर लिखे जाने तक चूड़धार में दो फुट ताजा हिमपात हुआ जबकि नौहराधार व हरिपुरधार में पांच से छह ईंच ताजा बर्फबारी दर्ज की गई। हैरानी की बात यह है कि गुरुवार को 12 फुट बर्फ के बीच 200 के करीब शिव भक्त  11965 फुट की ऊंचाई पर स्थित चूड़ेश्वर धाम पहुंचे है। इसे पागलपन कहें या श्रद्धा यह कहना मुश्किल है। स्वामी कमलानंद जी महाराज ने फोन पर बताया कि गुरुवार शाम को करीब 200 के लगभग श्रद्धालु चूड़धार पहुंचे जिन्हें तुरंत शुक्रवार सुबह ही वापस घर भेज दिया गया। उन्होंने कहा कि शुक्रवार को लगी बर्फबारी के बीच चौपाल, नोरा बोरा व कुपवी के तीन दर्जन से ज्यादा लोग चूड़धार पहुंचे। बताते चलें कि अभी चूड़धार यात्रा पर प्रशासनिक रोक लगी हुई है इसके बावजूद चूड़धार जाने से लोग नहीं हट रहे हैं। कई बार चूड़धार जाने वाले श्रद्धालु रास्ता भटक चुके हैं जिन्हें प्रशासन द्वारा रेस्क्यू किया जा चुका है। चूड़धार में पानी की लाइनें भी दिसंबर में ही जम चुकी हैं। स्वामी कमलानंद ने अपील की है कि मई माह तक कोई भी श्रद्धालु चूड़धार की यात्रा न करें। गुरुवार शाम से शुक्रवार सुबह तक करीब 12 घंटे तक बिजली के गुल होने के कारण लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। मौसम की बेरुखी के चलते विद्युत व यातायात जैसी मुख्य सुविधाओं से लोगों को असुविधाओं का आलम देखने को मिल रहा है। वहीं नौहराधार-कुपवी, लवानधार-हरिपुरधार, नाहन-हरिपुरधार मार्ग अवरुद्ध हो गए हैं। इसके अलावा क्षेत्र के संपर्क मार्ग भी फिसलन भरे हो चुके हैं। लोक निर्माण विभाग के अधिशाषी अभियंता आरके शर्मा ने बताया कि बर्फ को हटाने के लिए जेसीबी मशीनें लगी हुई हैं। नाहन-कुपवी मार्ग शुक्रवार शाम तक खुल गया है। अभी फिलहाल कुछ किलोमीटर हरिपुरधार मंदिर तक मार्ग बंद हुए हैं। जेसीबी मशीनें बर्फ हटाने के कार्य में लगी हुई हैं।

You might also like