लॉकडाउन के बीच बाजार ने पकड़ी रफ्तार

सरकार के राहत उपायों से लौटी रौनक, सेंसेक्स 1862 अंक उछला

मुंबई – एशियाई बाजारों में रही तेजी के साथ ही 21 दिवसीय राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के बीच सरकार द्वारा घोषित कुछ राहत उपायों के बल पर बुधवार को शेयर बाजार में लगातार दूसरे दिन तेजी रही, जिससे बीएसई का सेंसेक्स 1862 अंक और एनएसई का निफ्टी 517 अंक उछल गया। इससे निवेशकों को 4.80 लाख करोड़ रुपए का लाभ हुआ। बीएसई का सेंसेक्स 1861.75 अंक उछलकर 28535.78 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 516.80 अंक चमककर 8317.85 अंक पर रहा। इस दौरान छोटी और मझौली कंपनियों में भी लिवाली हुई, जिससे बीएसई का मिडकैप 3.53 प्रतिशत बढ़कर 10211.57 अंक पर और स्मॉलकैप 2.84 प्रतिशत चमककर 9129.58 अंक पर रहा। बीएसई के सभी समूह हरे निशान में रहे हैल्थकेयर में सबसे कम 1.47 प्रतिशत बढ़त दर्ज की गई। इस दौरान एनर्जी में सबसे अधिक 10.19 प्रतिशत, वित्त में 8.67 प्रतिशत और बैंकिंग में 8.62 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई। बीएसई में कुल 2356 कंपनियों में कारोबार हुआ, जिसमें 1213 बढ़त और 989 गिरावट में रहे, जबकि 154 में कोई बदलाव नहीं हुआ। वैश्विक स्तर पर अमेरिकी बाजार हरे निशान में खुले जबकि यूरोपीय बाजार लाल निशान में रहे। हालांकि एशियाई बाजारों में जबरदस्त तेजी दर्ज की गई। ब्रिटेन का एफटीएसई 0.22 प्रतिशत और जर्मनी का डैक्स 1.06 प्रतिशत उतर गया जबकि जापान का निक्की 8.04 प्रतिशत, दक्षिण कोरिया का कोस्पी 5.89 प्रतिशत, हांगकांग का हैंगसेंग 3.81 प्रतिशत और चीन का शंघाई कंपोजिट 2.17 की बढ़त में रहा। बीएसई का सेंसेक्स करीब 175 अंक टूटकर 26499.81 अंक पर खुला और इसके कुछ ही देर बाद यह 26359.91 अंक के निचले स्तर तक उतर गया। इसके बाद शुरू हुई लिवाली के बल पर यह 28 हजार अंक के स्तर को पार करते हुए 28790.19 अंक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया। अंत में यह मंगलवार के 26674.63 अंक की तुलना में 6.98 प्रतिशत अर्थात 1861.75 अंक उछलकर 28535.78 अंक पर रहा। एनएसई का निफ्टी 66 अंक टूटकर 7735.15 अंक पर खुला। बिकवाली के दबाव में यह 7714.75 अंक के निचले स्तर तक टूटा, लेकिन लिवाली शुरू होने पर यह आठ हजार अंक के स्तर को पार करते हुए 8476.75 अंक पर पहुंच गया। अंत में यह मंगलवार के 7801.05 अंक की तुलना में 6.62 प्रतिशत अर्थात 516.80 अंक चमककर 8317.85 अंक पर रहा। निफ्टी में शामिल कंपनियों में से 44 बढ़त में और छह गिरावट में रहे।

You might also like