शीत मरुस्थल ने मनाया लोकतंत्र का महापर्व

By: Oct 31st, 2021 12:55 am

पारंपरिक वाद्ययंत्र के साथ हुआ मतदाताओं का स्वागत, पारंपरिक परिधान पहन कर स्थानीय नृत्य भी किया
संजय भारद्वाज — केलांग
शीत मरुस्थल लाहुल-स्पीति में लोकतंत्र के महापर्व को एक उत्सव की तरह मनाया गया। पारंपारिक परिधानों में सजे ग्रामीण, पारंपारिक व्यंजनों की खुशबू और पारंपारिक वाद्ययंत्रों की धुन से पूरा परिवेश उत्सव सरीका हो गया। विश्व के सबसे ऊंचे पोलिंग बूथ टशीगंग सहित जिला में बनाए गए अन्य पोलिंग बूथों पर ऐसा ही मनमोहक नजारा देखने को मिला। सैर को पहुंचे कई पर्यटकों ने यह ऐतिहासिक पल अपने-अपने कैमरों में कैद किए। मंडी संसदीय क्षेत्र के लोकसभा उपचुनाव में आम चुनाव की तरह जोश देखने को मिला। कड़ाके की ठंड के बावजूद लाहुल घाटी के लोग न केवल मतदान करने के लिए मतदान केंद्र पहुंचे, बल्कि उत्सव की तरह नाचते गाते हुए भी देखे गए। लाहुल के जहालमा पोलिंग बूथ पर मतदाता पारंपारिक परिधान पहन कर मतदान करने पहुंचे।

पुरुष और महिलाओं ने यहां पारंपारिक परिधानों में मतदान किया। मतदान पहुंचे मतदाताओं का यहां लाहुली परंपरा के अनुसार इस्त्कबाल किया गया। इसके अलावा रंगरिक और टशीगंग में भी ऐसा ही माहौल देखने को मिला। रंगरीक में महिलाओं ने पारंपारिक नृत्य से सबका मन मोह लिया। पारंपारिक परिधानों में सजी महिलाओं का नृत्य आकर्षण का केंद्र रहा। विश्व के सबसे ऊंचे पोलिंग बूथ टशीगंग में तमाम मतदाता पारंपारिक परिधान पहनकर मतदान करने पहुंचे। घाटी में हालांकि सुबह ठंड होने के कारण मतदान की रफतार कुछ धीमी रहीं। सुबह 11 बजे तक जिला में महज 11 प्रतिशत मतदान हुआ था। जैसे-जैसे समय बीतता गया मतदाताओं की संख्या भी बढ़ती गई। एक बजे तक घाटी में 30.41 प्रतिशत लोग मतदान करने पहुंचे, जबकि तीन बजे तक मतदान प्रतिशता 49.33 प्रतिशत तक पहुंच गई। उपायुक्त एवं जिला निर्वाचन अधिकारी नीरज कुमार ने बताया कि घाटी में शांतिपूर्ण तरीके से मतदान संपन्न हुआ। (एचडीएम)

विश्व के सबसे ऊंचे पोलिंग बूथ में शत-प्रतिशत मतदान
केलांग। बर्फ से लकदक स्पीति घाटी का टशीगंग गांव। प्रचंड ठंड और बर्फीली हवाएं। तापमान जमाव बिंदु से नीचे। ऐसे विपरीत मौसम की परिस्थितियों के बावजूद लोकतंत्र के महाकुंभ में भाग लेने से स्पीति घाटी के टशीगंग गांव निवासी पीछे नहीं हटे। विश्व के सबसे ऊंचे टशीगंग पोलिंग बूथ पर सौ फीसदी मतदान हुआ, जबकि पूरे जिले में 55 प्रतिशत लोगों ने लोकतंत्र के महाकुंभ में अपनी भागीदारी सुनिश्चित की। टशीगंग में कुल 47 मतदाता थे, जिनमें 29 पुरुष व 18 महिला मतदाता थे। इनमें से सभी मतदाताओं ने मतदान किया। इसके अलावा पांच ईडीसी इलेक्शन ड्यूटी सर्टिफिकेट ने भी यहां पर मतदान किया है। एडीएम मोहन दत्त शर्मा ने भी यहां पर मतदान का निरीक्षण किया। यहां पर पारंपरिक परिधान में सभी मतदाता आए थे। इसके साथ पीठासीन अधिकारी और मतदान अधिकारी भी स्पीति की पारंपरिक परिधान में थे। मतदान केंद्र में छोटे बच्चों के लिए क्रेच की व्यवस्था रखी गई थी। मंडी संसदीय क्षेत्र उपचुनाव के लिए लाहुल-स्पीति जिला में सुबह आठ बजे शुरू हुआ। मतदान शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हो गया। जिला में शाम छह बजे तक करीब 55 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया। उपायुक्त एवं जिला निर्वाचन अधिकारी नीरज कुमार ने बताया कि मतदान संपन्न हो जाने के बाद मतदान केंद्रों से ईवीएम और वीवीपैट को कड़ी सुरक्षा के साथ स्ट्रांग रूम लाया जा रहा है।