सीमा के पास 700 आतंकवादी; नेपाल के रास्ते भारत में घुस सकते हैं दहशतगर्द, सेना अलर्ट

By: Jun 26th, 2022 12:05 am

सेना का अलर्ट; पाकिस्तानी कब्जे वाले कश्मीर से घुसपैठ की तैयारी

एजेंसियां — श्रीनगर
सेना ने शनिवार को कहा कि नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम के बावजूद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में प्रशिक्षण शिविरों में 500-700 आतंकवादी मौजूद हैं और कश्मीर घाटी में घुसपैठ करने के लिए लगभग 150 आतंकवादी लांचपैड पर इंतजार कर रहे हैं। कश्मीर में सेना के एक अधिकारी ने कहा कि नियंत्रण रेखा के पार मनशेरा, कोटली और मुजफ्फराबाद तीन प्रशिक्षण शिविरों में 500 से 700 आतंकवादी मौजूद हैं। सेना के अधिकारी ने नाम ने छापने की शर्त पर कहा कि लांचपैड्स पर घाटी के सामने से करीब 150 लोग घुसपैठ के लिए तैयार हैं। सेना के अधिकारी ने कहा कि कश्मीर में मई के अंत तक कोई घुसपैठ सफल नहीं हुई है। इसके बाद आतंकवादी भारतीय सीमा में घुसने के लिए वैकल्पिक रास्तों का इस्तेमाल कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि घुसपैठ की वारदात को अंजाम देने के लिए अब काफी हद तक पीर पंजाल के दक्षिण में ध्यान दिया जा रहा है और ऐसी भी खबरें मिल रही है कि कि कुछ लोग नेपाल के रास्ते भी घुसपैठ कर सकते हैं।

अधिकारी ने कहा कि हालांकि घुसपैठ की संभावना बनी हुई है, लेकिन एलओसी पर बाड़, सुरक्षा बलों की तैनाती और निगरानी उपकरणों ने घुसपैठ करने की घटनाओं को कम कर दिया है। उन्होंने कहा कि हमने जिस तरह से कंटीले बाड़ लगाए हैं और सुरक्षा बलों की तैनाती की है तथा सीमा पर निगरानी उपकरण लगाने से घुसपैठ के मामलों में कमी आई है। उन्होंने कहा कि नियंत्रण रेखा पर किए गए उपायों और सतर्कता के कारण आतंकवादी घुसपैठ के लिए वैकल्पिक रास्ते तलाश रहे हैं। अधिकारी ने कहा कि मई के अंत तक कोई सफल घुसपैठ नहीं हुई है। लक्षित हत्याओं पर अधिकारी ने कहा कि आतंकवादियों को उद्देश्य या तो सुरक्षा बलों को भड़काना होता है या फिर लोगों के बीच एक भय पैदा करना है।

अमरनाथ यात्रा में इस बार ज्यादा खतरा
श्रीनगर। केंद्रशासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में कुछ दिनों बाद अमरनाथ यात्रा शुरू होने वाली है। सेना ने शनिवार को कहा कि पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष वार्षिक तीर्थयात्रा के लिए ज्यादा खतरा बना हुआ है। 43 दिवसीय अमरनाथ यात्रा 30 जून से शुरू होने जा रही है। सेना के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि केंद्रशासित प्रदेश में सुगम तीर्थयात्रा के लिए इस समय और अधिक सुरक्षा बलों की तैनाती की गई है। अधिकारी ने कहा कि इस साल खतरे की आशंका बढ़ गई है।

नक्सलियों के नापाक मंसूबों पर फिरा पानी

सुकमा। छत्तीसगढ़ के माओवाद प्रभावित सुकमा जिले में फोर्स के जवानों ने नक्सलियों के नापाक मंसूबों को नाकाम कर दिया। सुरक्षा बलों को निशाना बनाने फुलमपाड़ इलाके में नक्सलियों ने 5 आईईडी प्लांट किया था। नक्सलियों की कायराना करतूत पर जवानों ने पानी फेर दिया। जवानों ने आईईडी को देखा, जिसे बम निरोधक दस्ते की टीम ने विस्फोट कर नष्ट कर दिया।